एटीएम मशीन को माला पहनाकर दी श्रद्धांजलि

  • कैश की किल्लत

नवभारत न्यूज शाजापुर

देशभर में कैश की किल्लत बढ़ती ही जा रही है और इससे आमजन को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. कैश की कमी के चलते वैवाहिक, स्वास्थ्य सहित अन्य जरूरी कामों को पूरा करने के लिए लागों को भारी असुविधा उठानी पड़ रही है.

गौरतलब है कि देश के अन्य राज्यों की तरह मध्यप्रदेश में भी कैश का टोंटा नजर आ रहा है जिसका असर शाजापुर जिले की एटीएम मशीनों पर भी दिखाई दे रहा है, और लोगों को कैश नही होने की वजह से खाली हाथ लौटना पड़ रहा है.

लोगों को हो रही इसी परेशानी के मद्देनजर कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य नरेश ने गुरुवार को शहर में केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए एटीएम मशीन को श्रद्धांजलि अर्पित की.

उल्लेखनीय है कि नोटबंदी के बाद देश में दूसरी बार कैश की किल्लत बनी है और इससे भारत के लगभग सभी राज्यों में हाहाकार मचा हुआ है और लोग कैश के लिए दर-दर भटकने के लिए मजबूर हो रहे हैं. कैश को लेकर हो रही इसी परेशान के चलते कांग्रेस ने केंद्र सरकार को घेरते हुए प्रदर्शन शुरू कर दिया है.

कांग्रेस का कहना है कि केंद्र सरकार केवल देश की जनता को परेशान करने का काम रही है, पहले सरकार ने नोटबंदी और फिर जीएसटी जैसे उलझे हुए टैक्स लगाकर लोगों को परेशान किया. लोग सरकार द्वारा परोसी गई इन दो बड़ी मुसीबतों से सही ढंग से उभर भी नही पाए थे कि अब देश में फिर से कैश की समस्या ने जन्म ले लिया है.

कैश की समस्या को लेकर कांग्रेसीयों ने नई सडक़ स्थित ई-गैलरी पर पहुंचे जहां एटीएम मशीनों में कैश नही होने पर उसे पुष्पमाला पहनाकर श्रद्धांजलि दी. इसीके साथ एटीएम से रुपया नही मिलने पर मायूस हुए लोगों को गुलाब का फूल भेंटकर सरकार की विफलता के बारे में बताया. इस मौके पर कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य नरेश ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के कारण देश की जनता को बार-बार कैश की समस्या से जुझना पड़ रहा है.

पहले केंद्र सरकार ने नोटबंदी का तुगलकी फरमान जारी कर लोगों को कैश के लिए परेशान किया था और अब सरकार की उदासीनता के चलते लोगों को एक बार फिर कैश के लिए मुसीबत उठानी पड़ रही है.

उन्होनें कहा कि अचानक से एटीएम से कैश गायब होना आम जनता की परेशानियों का सबब बन चुका है और आम जनता की जरूरतें पूरी नहीं हो पा रही हैं. जिन घरों में शादी हंै उन घरों में कैश के लिए काफी दिक्कतें देखी जा रही हैं, लेकिन सरकार मामले में ठोंस कदम उठाए जाने की बजाय सिर्फ दिलासा देती हुई नजर आ रही है.