kanpurफतेहपुर,  यूपी के फतेहपुर में मकर संक्रांति के जुलूस पर पत्थरबाजी के बाद सांप्रदायिक हिंसा फैल गई. हिंसक भीड़ ने छह दुकानों और तीन गाडिय़ों में आग लगाई. हिंसा का ये खेल खेला गया है फतेहपुर जिले के जहानाबाद कस्बे में. यूपी के बड़े शहर कानपुर से सिर्फ पचास किलोमीटर दूर जहानाबाद में दो समुदायों के बीच ये हिंसा हुई.

मकर संक्रांति त्योहार पर निकले जुलूस के दौरान ऐसा तांडव मचा कि दुकानें और गाडिय़ां फूंक दी गईं. हिंदू समुदाय के लोग मकर संक्रांति के जुलूस में राम मंदिर का मॉडल लेकर जा रहे थे, इसी दौरान एक दूसरे समुदाय के लोगों से इनका विवाद हो गया. जुबानी बहस हाथापाई में बदल गई और देखते ही देखते फायरिंग हो गई. फायरिंग की खबर मिलते ही सैकड़ों लोग सड़कों पर उतर आए और ईंट पत्थर चलाना शुरू कर दिया. फिर दुकानों में आग लगा दी गई रास्ते में तीन गाडिय़ां मिलीं उनमें आग लगा दी गई.

खबर मिलते ही मौके पर पुलिस फोर्स भी पहुंच गई. पुलिस का कहना है कि जुलूस में शामिल लोगों ने पहले नारेबाजी की इसके बाद वहां मौजूद मुस्लिम समुदाय के लोगों से हाथापाई और पथराव शुरू हो गई. इसके बाद भड़की हिंसा में छह दुकानें और तीन गाडिय़ां जला दी गई. पुलिस से भी भीड़ की झड़प हुई. फतेहपुर के जहानाबाद कस्बे में हिंदू समुदाय के लोग हर साल मकर संक्रांति के मौके पर राम मंदिर का मॉडल लेकर जुलूस निकालते हैं. लेकिन इस बार जुलूस में हिंसा हो गई. इस हिंसा में एक पुलिसवाले समेत करीब 10 लोग जख्मी हुए हैं.

Related Posts: