सहायक श्रमायुक्त कार्यालय की बैठक में बनी सहमति

नवभारत न्यूज  भोपाल,

प्रदेशभर के 108 एंबुलेंस कर्मचारियों द्वारा 2 अप्रैल से 8 घंटे की पारी में काम को लेकर जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड को सूचित किया था और उसी दिन से जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड द्वारा कर्मचारियों को 11 अप्रैल तक काम पर नहीं आने के निर्देश दिए गए थे जिससे 108 एंबुलेंस का संचालन चरमरा गया था.

इसको लेकर 108 एंबुलेंस कर्मचारी राजधानी के सहायक श्रम आयुक्त कार्यालय में 3 तारीख को अपनी शिकायत लेकर पहुंचे थे जहां पर मामले को संज्ञान में लेकर सहायक श्रम आयुक्त भोपाल द्वारा तीनों पक्षों राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड और 108 एंबुलेंस कर्मचारी संघ मध्य प्रदेश को 4 अप्रैल बुधवार को बुलाया गया था.

इस संदर्भ में सहायक श्रम आयुक्त ने 11 अप्रैल को इंदौर में श्रम आयुक्त मध्यप्रदेश कार्यालय में होने वाली तीनों पक्षों की बैठक तक के लिए 108 एंबुलेंस कर्मचारी संघ और जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड के बीच एक सहमति पत्र बनाकर हस्ताक्षर करवाएं और दोनों पक्षों को निर्देशित किया की 11 अप्रैल तक पूर्व की स्थिति में ही 108 एंबुलेंस हो का संचालन किया जाए.

इसके बाद 108 एंबुलेंस कर्मचारी वापस काम पर लौट आए हैं. बैठक में निर्णय हुआ कि 11 अप्रैल को इंदौर में होने वाली पेशी तक 108 एंबुलेंस कर्मचारी पहले की तरह ही 12 घंटे की ड्यूटी करेंगे और 8 घंटे के संबंध में फैसला 11 अप्रैल को श्रम आयुक्त मध्यप्रदेश कार्यालय में होने वाली पेशी में होगा.

वहीं दूसरी तरफ 108 एंबुलेंस सेवा के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा 1340 बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया गया है जिससे कि इस प्रकार की स्थितियों से निपटने के लिए इन बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जा सके और जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड को भी पत्र जारी कर स्थिति से निपटने के लिए निर्देशित किया गया था ताकि जनता के लिए चलाई गई 108 आपातकालीन सेवा सुचारु रुप से चल सके और इसका लाभ आम जनता को मिल सके.

कंपनी और हमारे बीच सहमति बन गई है 8 घंटे से ऊपर जितना घंटे भी हम काम करेंगे उसका हिसाब किताब हम अपने पास रखेंगे जिसकी निगरानी एनएचएम द्वारा की जाएगी
-असलम खान, मीडिया प्रभारी, 108 एंबुलेंस कर्मचारी संघ मध्य प्रदेश

सहायक श्रम आयुक्त द्वारा दोनों पक्षों 108 एंबुलेंस कर्मचारी संघ और जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड के प्रतिनिधियों को निर्देशित किया गया है की 11 अप्रैल तक पूर्व स्थिति में कार्य किया जाए यदि दोनों पक्षों में से किसी ने भी सहमति पर व्यवधान उत्पन्न किया तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी
-डॉ. महेंद्र जैन, सलाहकार, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन

Related Posts: