स्कूल जाने के लिए बस का कर रही थी इंतजार

  • साथ खड़ी सहेली भी हुई घायल
  • आरोपी कार चालक गिरफ्तार

संत हिरदाराम नगर,

बैरागढ़ थाना अंतर्गत सीटीओ में दो छात्राओं को तेज रफ्तार कार चालक ने टक्कर मार दी. इसमें एक छात्रा की मौके पर ही मौत हो गई जबकि दूसरी घायल हो गई जिसका उपचार अस्पताल में चल रहा है. दोनों छात्राएं स्कूल जाने के लिए बस का इंतजार कर रहीं थी.

पुुलिस ने आरोपी चालक को गिरफ्तार कर लिया है. हादसे के बाद मौके पर मौजूद भीड़ ने गुस्से में आकर आरोपी चालक की जमकर पिटाई और कार में तोडफ़ोड़ की. पुुलिस के मुताबिक यादव रेस्टोरेंट के पास सुबह दो छात्राएं स्कूल जाने के लिए खड़ी हुई थी तभी तेज गति से आ रही आई-10 कार (एमपी 04-सीजे-9856) ने उन दोनों छात्राओं को टक्कर मार दी. कार को कन्हैयालाल देवानी चला रहा था.

कन्हैया तेजी और लापरवाही से कार चला रहा था. इस हादसे में छात्रा गरिमा शिवदासानी पुुत्री अनिल शिवदासानी (11) निवासी मून रेसिडेंसी कैलाश नगर बैरागढ़ की मौत हो गई. यह कक्षा छठवीं की छात्रा थी. वहीं दूसरी छात्रा स्तुति सेंगर पिता मुकेश सिंह सेंगर (11) निवासी मकान नंबर 7 कैलाश नगर बैरागढ़ जो कक्षा पांचवीं की छात्रा है. स्तुति का इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है.

सहेली का छूटा साथ

इधर, हादसे में घायल गुंजन की सहेली स्तुति अब ठीक है. लेकिन वह भी महज 11 साल की है वह अपनी सहेली गुंजन के साथ ही खेलती कूदती थी, साथ स्कूल जाना और लंच भी साथ करते थे. जिस समय हादसा हुआ तब भी वह दोनों स्कूल जाने के लिए बस का इंतजार कर रहे थे. और अचानक ऐसा हादसा हो गया जिसमें उसकी सहेली का हमेशा के लिए साथ छूट गया.

परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल

दुर्घटना में गरिमा शिवदासानी की मौत के बाद उसके पिता अनिल और माता मुस्कान सहित परिजनों का का रो-रो कर बुरा हाल है. उनकी कालोनी में भी सन्नाटा छाया हुआ है. मृतका के पड़ोसी का कहना है कि बच्ची को उसके पिता बहुत लाड़ प्यार से रखते थे. वह पढऩे में भी बहुत होशियार थी. वह अपने पिता से जो भी मांगती थी उसकी हर इच्छा का वह पूूरा करते थे.

परिजनों ने बताया कि मृतक गरिमा को घर में सब प्यार से गुनगुन बुलाते थे. उसके साथ घर में तीन साल का नकुल छोटा भाई है. जिसने अभी स्कूल जाना शुरू किया है. वह उससे बहुत प्यार करती थी. स्कूल से घर आते ही दोनों साथ में रहते थे. लेकिन हादसे में बड़ी बहन की मौत का उसे पता भी नहीं है. वह तो नसमझ है जो स्कूल से आने के बाद बार-बार अपनी दीदी के बारे में पिता से पूूछ रहा है.

सीख रहा था कार चलाना

आरोपी ने पुुलिस को बताया कि उसने कार अभी कुछ दिन पहले ही किसी दूसरे व्यक्ति से खरीदी थी. जिसका अभी नामांतरण भी नहीं कराया था. कार पर लर्निंग (एल) लिखकर चलाना सीख रहा था. उसका कहना है कि गलती से ब्रेक की जगह एक्सीलेटर पर पैर रखा गया जिससे कार तेज गति में होकर अनियंत्रित हो गई. इसलिए गलती से ऐसा हादसा हो गया.

 

Related Posts: