एनआईएलयू में डायरेक्टर का विरोध जारी

नवभारत न्यूज भोपाल,

नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट ऑफ यूनिवर्सिटी में छात्रों का आंदोलन दोबारा प्रारंभ हो गया है. संस्थान के डायरेक्टर डॉ. एस.एस. सिंह के विरुद्ध छात्रों ने काले कपड़े पहन कर विरोध प्रदर्शन किया.

छात्रों का कहना है कि पूर्व में जांच कमेटी गठित होने के बाद हमें उम्मीद थी कि डायरेक्टर पर उचित कार्यवाही होगी पर अभी तक उच्च स्तरीय कमेटी ने अपनी रिपोर्ट पेश नहीं की है और न ही डायरेक्टर को बर्खास्त किया गया है. वहीं डायरेक्टर ने जांच अवधि में नियुक्तियां कर दी हैं, इसीलिये सोमवार से छात्र-छात्राओं ने काले कपड़े पहनकर विरोध प्रारंभ कर दिया है.

दो माह पूर्व हुआ था आंदोलन

एनआईएलयू छात्रों ने डायरेक्टर पर बच्चों के साथ अमानवीय व्यवहार व तानाशाही के आरोप लगाते हुये पांच दिनों तक परिसर से सडक़ तक शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया था. प्रदर्शन के बाद जन प्रतिनिधियों द्वारा छात्रों की मांगों को संज्ञान में लिया था.

छात्रों ने अपनी बात हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश तक पहुंंचाई थी, जिसके बाद जांच समिति गठित की गई थी. कमेटी को अपनी रिपोर्ट दिसंबर की समाप्ति तक देनी थी लेकिन समयावधि से एक माह अधिक होने के बाद भी अभी तक जांच कमेटी की रिपोर्ट पेश नहीं हुई है.

संस्थान में हुई हैं नियुक्तियां

संस्थान में 22 जनवरी को जारी आदेश के अनुसार 6 संकायों में 18 नई नियुक्तियां हुई हैं. कम्प्यूटर ऑपरेटर, परीक्षा सहायक और अकाउंट संकायों में पदों पर लोगों की नियुक्तियां हुई हैं, जो कि सहायक कुलसचिव के हस्ताक्षर से जारी हुई हैं.

छात्रों का कहना है कि जब डायरेक्टर पर स्वयं जांच कमेटी विवेचना कर रही है, तो उनके अधीनस्थ अधिकारी नियुक्तियां क्यों कर रहे हैं, यह निुक्तियां नियम विरुद्ध हुई हैं. तय प्रक्रिया व प्रचार-प्रसार नहीं किया गया है.

जिसके विरोध में छात्रों ने काले कपड़े पहन कर विरोध किया. छात्रों की मांग है कि डायरेक्टर एस.एस. ङ्क्षसह को जल्दी बर्खास्त किया जाये व जांच कमेटी अपनी रिपोर्ट जल्द सौंपे. छात्र दोबारा संस्थान में विरोध प्रदर्शन प्रारंभ करने वाले हैं. वहीं डायरेक्टर छात्रों के विरोध के कारण छुट्टी पर चले गये हैं.

Related Posts: