radhamohanनयी दिल्ली,   कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने आज कहा कि किसान चारों ओर संकट से घिरा हुआ है और सरकार उसे इस संकट से निकालने का हर संभव प्रयास कर रही है। श्री सिंह ने यहां भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के 88 वें स्थापना दिवस समारोह को सम्बोधित करते हुये कहा कि किसान न केवल प्राकृतिक संकट से घिरा है बल्कि वह मानव निर्मित संकट का भी शिकार है।

उन्होंने कहा कि इस संकट के समाधान के लिये सरकार में शामिल लोगों को सत्य निष्ठा से अपने कर्तव्य के पालन की जरूरत है। कृषि मंत्री ने कहा कि पहले की सरकारों की मानसिकता कृषि के समेकित विकास की नहीं रही और वे किसी योजना को लागू करने में अपना नफा नुकसान देखते थे लेकिन अब शासन का मिजाज बदला है तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जीवन राष्ट्र के लिए समर्पित है।

वह गांव, गरीब और किसानों के आर्थिक विकास के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने का संकल्प लिया है और इसके लिये जरूरी है कि वैज्ञानिक कृषि अनुसंधान को तेज करें और जलवायु परिर्वतन के मद्देनजर अपना अनुसंधान करें जिससे समय में बदलाव के बावजूद कृषि उत्पादन में वृद्धि होने के साथ ही पशु पालन, डेयरी, मत्स्य पालन और बागवानी के क्षेत्र में नये कीर्तिमान स्थापित किये जा सकें।