arunनई दिल्ली. 5 जनवरी. केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज पटियाला हाऊस स्थित अदालत में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आप पांच नेताओं के खिलाफ अपराधिक मानहानि मामले में बयान दर्ज कराया.

उन्होंने कहा कि दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के अध्यक्ष रहते हुए किसी से एक पैसा भी नहीं लिया और जो आरोप लगाये गये हैं वे झूठे और छवि खराब करने वाले हैं. कड़ी सुरक्षा के बीच दोपहर दो बजे पटियाला हाऊस स्थित चीफ मैट्रोपोलिटिन मजिस्ट्रेट संजय खनगवाल के अदालत में बयान दर्ज कराने पहुंचे जेटली ने मुख्यमंत्री और आप के पांच अन्य नेताओं कुमार विश्वास, संजय सिंह, आशुतोष, दीपक बाजपेयी और राघव चड्डा के डीडीसीए के अध्यक्ष रहते हुये वित्तीय गड़बडिय़ों के आरोपों को खारिज कर दिया.

उन्होंने कहा कि केजरीवाल और आप के पांच अन्य नेताओं ने उनके तथा परिवार के खिलाफ जो आरोप लगाये हैं वे झूठे और छवि खराब करने वाले हैं. जेटली ने कहा कि मुख्यमंत्री का यह कहना कि अध्यक्ष रहते हुये फिरोजशाह कोटला स्टेडियम के निर्माण में उन्हें पैसा मिला था सरासर झूठ है. निदेशक मंडल ने एक कमेटी का गठन किया था जो काम का निरीक्षण करती थी और वह निगरानी समिति के सदस्य भी नहीं थे. जेटली के अलावा वरिष्ठ पत्रकार और इंडिया टीवी के प्रमुख रजत शर्मा ने भी अपने बयान दर्ज कराये.

करीब सत्तर मिनट तक बयान दर्ज कराने के दौरान जेटली ने ट्विटर और फेस बुक पर मुख्यमंत्री और पांच अन्य नेताओं के पोस्टों का जिक्र किया. उनका कहना था कि उनके खिलाफ दिये ये बयानों से उनकी प्रतिष्ठा धूमिल हुयी और इसलिए उन्हें मानहानि का मुकदमा दर्ज करवाना पड़ा. आप नेता ने उनके और परिवार के खिलाफ झूठे और छवि खराब करने वाले बयान दिये जिससे उनकी प्रतिष्ठा गिरी. उन्होंने 10 करोड़ रुपए के हर्जाने का दावा भी किया है.

 

Related Posts: