supreme courtनई दिल्ली, 6 जुलाई. अब बिन ब्याही मां को अपने बच्चे के संरक्षण के लिए उसके पिता के नाम का खुलासा करने की जरूरत नहीं है. सुप्रीम कोर्ट ने एक नया फैसला सुनाते हुए कहा है कि अब बिन ब्याही मां को अपने बच्चे के संरक्षण यानी गार्जियनशिप के लिए उसके पिता के नाम का खुलासा करने की जरूरत नहीं है.

वो मां बिना पिता का नाम बताए भी बच्चे का संरक्षण ले सकती है. सुप्रीम कोर्ट ने एक महिला की याचिका पर सुनवाई के दौरान यह फैसला दिया. याचिका में महिला ने बच्चे की कस्टडी के लिए पिता की रजामंदी होने की शर्त को चुनौती दी थी.

Related Posts: