kejriwalनई दिल्ली,  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 21 आप विधायकों को संसदीय सचिव नियुक्त करने को लेकर उठे विवाद पर कांग्रेस और भाजपा पर तीखा हमला करते हुए आज कहा कि इन पार्टियों का दोगलापन नहीं चलेगा.

केजरीवाल ने दोहरे लाभ के पद को लेकर विवाद में घिरे अपने विधायकों का बचाव करते हुए यहां कहा कि संसदीय सचिव नियुक्त करना कोई नई परंपरा नहीं है. जब कांग्रेस सत्ता में थी तो उसने भी संसदीय सचिव बनाए थे. जब भाजपा आई तो उसके राज में भी संसदीय सचिव बनाए गए. अब ऐसा क्या हो गया, जो इतना हंगामा खड़ा कर दिया गया. केजरीवाल पर आरोप है कि उन्होंने आप विधायकों को संसदीय सचिव बनाए जाने से पहले केन्द्र की अनुमति नहीं ली, जो कि एक संवैधानिक अनिवार्यता है.

उन्होंने इस नियुक्ति की मंजूरी के लिए एक विधेयक राष्ट्रपति को भेजा था, जिसे लौटा दिया गया. यह मामला दोहरे लाभ के पद का बन जाने से विवाद में फंस गया है.

Related Posts: