नयी दिल्ली, आम आदमी पार्टी(आप) पूर्व मंत्री कपित मिश्रा और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच वाकयुद्ध जारी है। श्री केजरीवाल के जनता दरबार में अपने समर्थकों के साथ पहुंचे श्री मिश्रा ने प्रवेश की अनुमति नहीं मिलने पर जमकर नाटक किया।

श्री मिश्रा ने कुछ दिन पहले घोषणा की थी कि वह मुख्यमंत्री आवास पर लगने वाले जनता दरबार में जाकर कथित घोटालों के कागजात के साथ पर्दाफाश करेंगे। श्री मिश्रा अपने समर्थकों के साथ आज सुबह मुख्यमंत्री आवास पहुंचे और अंदर जाने की जिद करने लगे। पुलिसकर्मियों ने ‘आप’से निलंबित विधायक को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी तो श्री मिश्रा बैरिकेट पर चढ़ गये। उन्होंने अनुमति नहीं मिलने पर कीर्तन करना शुरू कर दिया।

श्री मिश्रा के साथ आप के दिवंगत कार्यकर्ता संतोष कोली की मां भी थी। श्री कोली की कथित दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी और मुख्यमंत्री ने इनकी जांच करवाने का भरोसा दिया था।

जनता दरबार में प्रवेश की अनुमति नहीं मिलने पर श्री मिश्रा मुख्यमंत्री आवास के बाहर जमीन पर समर्थकों के साथ बैठ गये और भजन कीर्तन शुरू कर दिया। श्री मिश्रा और उनके समर्थक “रघुपति राघव राजा राम-अब तो कुर्सी छोड़ो केजरीवाल” आदि- जोर जोर से गाने लगे।

पुलिस ने श्री मिश्रा को तीन लोगों के साथ अंदर जाने की इजाजत ने दी, लेकिन वह नहीं गये। बाद में श्री मिश्रा ने संवाददाताओं से कहा कि आज जनता दरबार का वक्त निकल गया है किन्तु कल फिर आऊंगा। उन्होंने कहा कि अपने साथ वह ढोल-नंगाड़े लेकर इसलिए आये थे क्योंकि जिनको सुनाई नहीं देता, उन तक अपनी बात पहुंचानी और सुनानी है।

पिछले महीने श्री केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने के बाद मंत्रिमंडल से निष्कासित श्री मिश्रा ने स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन के साथ मुख्यमंत्री की कथित मिलीभगत को लेकर सैकड़ों करोड़ रूपये के घोटाले के कथित दस्तावेजों के साथ भ्रष्टाचार निरोधक शाखा (एसीबी) और केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) समेत कई एजेंसियों में शिकायत की है।

Related Posts: