नयी दिल्ली,  उप राष्ट्रपति डॉ़ हामिद अंसारी ने आज शिक्षा को देश के विकास की बुनियाद बताते हुए कहा कि केरल शिक्षा के जरिये ही देश के एक आदर्श राज्य के रूप में विकसित हुआ है और उसने जाति प्रथा को तोड़कर समता मूलक समाज की स्थापना की है ।

डॉ़ अंसारी ने इंडियन सोशल साइंस द्वारा शिक्षा के अधिकार से जुड़े राज्यादेश के दो सौ साल पूरे होने पर आयोजित एक सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए यह बात कही । डॉ़ अंसारी ने कहा कि 17 जून 1817 को ट्रावन्कोर की रानी ने सबको शिक्षा देने के बारे में जो राज्यादेश जारी किया था ,उसने राज्य में शिक्षा को लेकर एक नयी चेतना पैदा की जिससे राज्य का सामाजिक विकास हुआ और इस विकास ने आर्थिक नींव को रखने का काम किया ।

केरल शिक्षा के क्षेत्र में देश का एक आदर्श राज्य बना और इस से जाति प्रथा भी टूटी और एक समता मूलक समाज की भी रचना हुई ।इसके बाद केरल एक ज्ञान आधारित राज्य बना । उन्होंने कहा कि केरल को अब आर्थिक विकास की दिशा में काम करना है और इसके लिए डिजिटल साक्षरता कौशल विकास को बढ़ाना है । उन्होंने कहा कि केरल में प्रति व्यक्ति आय सबसे अधिक है और पूंजी निवेश भी काफी हुआ है । केरल मॉडल से सबको सीखने की काफी जरुरत है अौर केरल ने शिक्षा के क्षेत्र में खुद को एक बेहतर मॉडल के रूप में पेश किया है ।

Related Posts: