kanhaiyaनई दिल्ली,  देशद्रोह के आरोप में पिछले कई दिनों से न्यायिक हिरासत में रह रहे जेएनयूएसयू प्रेसीडेंट कन्हैया कुमार को दिल्ली हाई कोर्ट से तत्काल कोई राहत नहीं मिली है.

कन्हैया कुमार ने इस मामले में बेल के लिए पहले सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. सुप्रीम कोर्ट ने कुमार से कहा था कि वह बेल के लिए निचली अदालत में जाएं. इसके बाद कन्हैया कुमार के वकीलों ने दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट में इस पर सुनवाई होनी थी लेकिन कोर्ट ने अब सुनवाई की तारीख 29 फरवरी कर दी है.

दिल्ली पुलिस हाई कोर्ट से जेएनयूएसयू प्रेसीडेंट कन्हैया कुमार की नए सिरे से पुलिस कस्टडी की मांग करेगी. देशद्रोह के मामले में दो और छात्रों को पुलिस ने मंगलवार देर रात अरेस्ट किया था. हाई कोर्ट ने पुलिस को सख्त हिदायत दी है कि वह कन्हैया कुमार की सुरक्षा में कोई कसर नहीं छोड़े. कोर्ट ने कहा है कि कन्हैया कुमार को खरोंच भी नहीं आना चाहिए.

पुलिस ने कहा है कि कन्हैया की पुलिस रिमांड इसलिए जरूरी है ताकि खालिद और अनिर्बान के साथ इनकी पूछताछ की जा सके. हाई कोर्ट ने पुलिस से कहा है कि खालिद और अनिर्बान की सुरक्षा में कोई चूक नहीं होनी चाहिए. हाई कोर्ट ने कहा है कि दोनों की पेशी से पहले सुरक्षा से जुड़ी सारी चिंताओं को दूर किया जाना चाहिए.

Related Posts: