नई दिल्ली,  रामनाथ कोङ्क्षवद के 14वें राष्टï्रपति पद की शपथ लेने के बाद पहले संबोधन से स्पष्टï हो गया है कि वे पीएम मोदी के सुर से सुर और ताल से ताल मिलाकर चलेंगे. उन्होंने कहा कि विकास की ऊंचाइयों को छूने के लिए डिजीटल राष्टï्र होना बहुत जरूरी है.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि देश का हर नागरिक राष्टï्र का निर्माता है. चाहे वह मजदूर, वैज्ञानिक, किसान, महिलाएं, पुलिस, सैनिक या शिक्षक ही क्यों न हो. इससे पूर्व सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जे.एस. खेहर ने कोङ्क्षवद को राष्टï्रपति पद की शपथ दिलाई. शपथ के बाद प्रणब दा और कोङ्क्षवद ने कुर्सियां बदलीं. इसके बाद 21 तोपों की सलामी दी गई. शपथ ग्रहण में पीएम नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत कई बड़ी राजनीतिक हस्तियां मौजूद थीं.

Related Posts: