smritiनयी दिल्ली,  राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने कौशल विकास को सरकार की महत्वपूर्ण योजना करार देते हुए अाज कहा कि इसके प्रभावी क्रियान्वयन में देश में बेरोजगारी घटेगी तथा सामाजिक एवं आर्थिक विकास को गति मिलेगी। श्री मुखर्जी ने यहां विश्व कौशल विकास दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा कि सरकार की कौशल विकास योजना ने कम समय में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की है।

इससे देश में बेरोजगारी की समस्या घटेगी और हर हुनरमंद नागरिक को सम्मान मिलेगा। उन्होंने कहा कि कौशल विकास का जो प्लेटफार्म तैयार किया गया है उससे देश की युवा पीढ़ी को रोजगार से जोड़ा जा सकेगा। उनका कहना था कि भारत दुनिया का सबसे युवा देश है। हमारी 62 फीसदी आबादी अच्छी तरह से कामकाज करने लायक है। देश की 54 प्रतिशत आबादी 35 साल से कम उम्र की है। इसका मतलब भारत युवाओं का देश और युवा राष्ट्र है।

राष्ट्रपति ने इस मौके पर इंडिया इंटरनेशनल स्किल सेंटी(आईआईएमसी), प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, लेबर मार्किट इन्फोरमेशन सिस्टम तथा स्किल ऑन लाइन योजना की भी शुरुआत की। आईआईएमसी के जरिए युवाओं का इस तरह से कौशल विकास किया जाएगा कि देश में प्रशिक्षण लेने वाले युवकों को विदेशों में रोजगार के अवसर मिल सकें। इस योजना के तहत प्रशिक्षित युवाओं को दुनिया के अन्य देशों में रोजगार के लिए अलग से प्रशिक्षण की जरूरत नहीं होगी।

Related Posts: