वैज्ञानिकों ने ऐसा कण खोज निकाला है जो रोशनी की रफ्तार से भी तेज भाग सकता है. यानी यह आइंस्टीन की थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी को गलत साबित करता है. इस थ्योरी के मुताबिक , कोई भी चीज रोशनी से तेज नहीं भाग सकती. लेकिन न्यूट्रिनो नाम के जिस कण को खोजा गया है , उसकी स्पीड लाइट से भी तेज पाई गई है.

क्या है न्यूट्रिनो- यह एटम के भीतर छिपे कण हैं जिन्हें न्यूट्रिनो नाम से जाना जाता है. असल में न्यूट्रिनो इतने महीन कण हैं कि कुछ समय पहले ही यह पता चल पाया कि इनमें भार भी होता है. जब इनकी स्पीड चेक की गई तो पता लगा कि ये लाइट की स्पीड से भी तेजी से आगे बढ़ते हैं।

अगर वैज्ञानिकों की यह खोज सही साबित होती है तो आइंस्टीन की थ्योरी खारिज हो जाएगी। न्यूट्रिनो का यह टेस्ट यूरोपियन न्यूक्लियर रिसर्च सेंटर ( सर्न ) और इटली की एक लैबरटरी ने मिलकर किया था। इसमें पाया गया कि न्यूट्रिनो की रफ्तार 3 लाख और 6 किलोमीटर प्रति सेकंड है. यानी यह लाइट की स्पीड से छह किलोमीटर प्रति सेकंड ज्यादा है.

 

 

नहीं था नतीजे का अंदाजा – प्रयोग में शामिल रहे भौतिकी विशेषज्ञ एन्टोनियो इरेडितातो ने कहा कि इस नतीजे से हम बेहद हैरान हैं क्योंकि हम तो सिर्फ न्यूट्र्रिनो की स्पीड मापना चाहते थे. किसी को भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि कुछ खास नतीजे भी हासिल हो सकते हैं. वैसे वैज्ञानिकों ने इन नतीजों की पुष्टि करने के लिए छह महीनों का वक्त लिया और फिर इसकी घोषणा की.

अब उनका मानना है कि इन नतीजों से फिजिक्स को लेकर चली आ रही हमारी धारणा में थोड़ा बदलाव जरूर आएगा.क्रांतिकारी नतीजे फें्रच वैज्ञानिक पियरी बिनेट्रॉय ने इन नतीजों को क्रांतिकारी बताते हुए कहा कि अगर लोग इसे स्वीकार करते हैं तो फिजिक्स के एक्सपर्ट्स को वापस अपने सिद्धांत दुरुस्त करने होंगे. वहीं, दूसरी ओर प्रयोग में शामिल रहे अलफॉन्स वेबर ने कहा कि इसमें किसी चूक की भी गुंजाइश हो सकती है , इसलिए हम थोड़ा सतर्क हैं.

Related Posts: