bpl1भोपाल,   क्राइम ब्रांच मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले विदिशा के 4 शातिर गांजा तस्करों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने आरोपियों के पास से डेढ़ लाख कीमत का 20 किलों गांजा भी बरामद किया है. आरोपी विदिशा से भोपाल आकर गांजा खपाने का प्रयास कर रहे थे.

एसपी मुख्यालय अनिल महेश्वरी के अनुसार मुखबिर से सूचना मिली थी कि विदिशा से बिना नंबर की सफेद रंग की शेवरले कार में चार व्यक्ति गांजा लेकर आये हैं और डिलेवरी देने के इंतजार में भानपुर मवेशी बाजार में खड़े हैं. सूचना के आधार पर टीम को रवाना किया गया, जहां से चारों संदेहियों को हिरासत में लिया गया. पूछताछ में आरोपियों की पहचान आशीष गुर्जर, वीरेन्द्र सिंह ठाकुर, गोविंद चतुर्वेदी और पुरुषोत्तम चारों निवासी विदिशा के रूप में हुई. आगे की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि आशीष गुर्जर गैंग का सरगना है जो कि मिर्जापुर मंडी विदिशा में खेती-किसानी का काम करता है.

वह विदिशा लोकल में ही गांजा बेचने का काम करता है. वीरेन्द्र सिंह ठाकुर व गोविन्द चतुर्वेदी विदिशा के रहने वाले हैं. वीरेन्द्र सिंह ठाकुर भोपाल में सिस्को प्राईवेट कंपनी के माध्यम से एटीएम में केश डालने का काम करता है तथा गोविन्द चतुर्वेदी विदिशा में ही ए.यू. फाईनेंस कंपनी ेें लोन दिलाने में दलाली का काम करता है. आशीष गुर्जर की इन दोनों से विदिशा में लोन लेने के माध्यम से पहचान हुई थी. चौथा साथी राहुल रघुवंशी जो कि भोपाल में ही वी.एन.एस कालेज में गाड़ी चलाता था. उसकी नौकरी दो महीने से छूट गई थी. फिलहाल वह विदिशा में रह रहा था और बेरोजगार था.

राहुल भी आशिष गुर्जर के सम्पर्क में आया. राहुल को आशिष द्वारा यह बताया कि भोपाल में आजकल स्टूडेंट द्वारा गांजे पीने से इसकी खपत बहुत अधिक मात्रा में हो रही है क्योंकि तूने भोपाल में काफी समय तक कॉलेजों की गाड़ी चलाई इसलिये तुम्हें मालूम है कि भोपाल में गांजे की खपत किन-किन क्षेत्रो में अधिक होती है.

तुम मेरा माल भोपाल में बिकवाओगे तो मैं तुम्हें इसका अच्छा कमीशन दूंगा. इसी लालच में चारों लोग गांजा बेचने की फिराक में भोपाल आये थे. यहां आने के लिए गोविन्द चतुर्वेदी अपने परिचित किसी प्रकाश नाम के व्यक्ति से कार मांग लाया था. फिलहाल क्राइम ब्रांच की टीम पकड़े गये तस्करों से मादक पदार्थ के थोक विक्रेता एवं फुटकर विक्रेताओं के संबंध मे पूछताछ कर रही है.

Related Posts: