pranab1बीजिंग,  राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने भारत और चीन के बीच विकास में साझेदारी के लिए आपसी राजनीतिक समझबूझ विकसित करने के महत्व पर जोर देते हुए आज कहा कि आर्थिक शक्ति के रूप में उभर रहे दोनों देशों को क्षेत्रीय और वैश्विक समृद्धि बढ़ाने के लिए समान रूप से मिलकर काम करने की जरूरत है।

श्री मुखर्जी ने पीकिंग विश्वविद्यालय में कुलपतियों और उच्चतर शिक्षा के प्रमुखों के गोलमेज कार्यक्रम में कहा कि भारत और चीन 21 वीं शताब्दी में महत्वपूर्ण और रचनात्मक भूमिका निभाने के लिए तत्पर हैं।

इस मौके पर उन्होंने “भारत-चीन संबंध: लोकानुकूल भागीदारी के लिए 8 कदम” विषय पर व्याख्यान भी दिया।