gangwarभोपाल,   फेसबुक पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ टिप्पणी करने के मामले में आज राज्य सरकार ने प्रमोटी आईएएस अधिकारी अजय गंगवार को नोटिस जारी करके सात दिन में जवाब तलब किया है। गंगवार की फेसबुक पोस्ट पर विवाद होने के बाद उनसे बड़वानी की कलेक्टरी छीन ली गयी थी.

वर्ष 2005 बैच के आईएएस अधिकारी गंगवार हाल ही में बड़वानी जिला कलेक्टर के पद पर पदस्थ थे। इस दौरान उन्होंने नेहरू गांधी परिवार की प्रशंसा और केंद्र सरकार की कार्यप्रणाली को लेकर गंभीर कटाक्ष किए।

मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक इससे चर्चा में आए गंगवार के बारे में जानकारी खंगाली गयी तो पता चला कि कुछ माह पहले उन्होंने सोशल मीडिया में प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ लिखे गए लेख को च्लाइकज् करते हुए उनके खिलाफ आंदोलन करने की बात लिखी थी। मीडिया की खबर के आधार पर ही नोटिस में मोदी के खिलाफ लेख को च्लाइकज् करने का जिक्र करते हुए जवाब तलब किया गया है। इसके पहले सोशल मीडिया में टिप्पणी के कारण चर्चा में आने के बाद राज्य सरकार ने गंगवार को कलेक्टर पद से हटाकर राज्य मंत्रालय में उप सचिव पदस्थ कर दिया है।

वे शीघ्र ही राज्य मंत्रालय में अपनी आमद दर्ज कराएंगे। गंगवार ने नोटिस जारी होने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि तबादले के बाद वह अवकाश पर हैं और छह जून को नयी पदस्थापना पर ज्वाइनिंग देंगे। गंगवार पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के ओएसडी भी रह चुके हैं।

Related Posts:

भ्रष्टाचार की पर्याय बनी भाजपा सरकार
अवैध अतिक्रमणकारियों को नोटिस जारी
मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना की पहली ट्रेन रवाना
हरदा में रेल हादसा: 50 यात्रियों की मौत, सैकड़ों घायल
लोकतंत्र में हार-जीत चलती रहती है - शिवराज सिंह चौहान
कटारे को डाक मतपत्र मामले में गोटिया और चुनाव आयोग की पुर्ननिरीक्षण याचिका खारिज