वाशिंगटन,   वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि गरीब देशों के विकास के लिए विश्व बैंक जैसे बहुआयामी संगठनों के माध्यम से मदद करना अमीर राष्ट्रों की जिम्मेदारी है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष तथा विश्व बैंक समूह की बैठकों के लिए आधिकारिक यात्रा पर यहाँ आये श्री जेटली ने कहा कि अमीर देशों को अपने संसाधनों का उपयोग कर विश्व बैंक जैसे बहुआयामी संगठनों को इस लायक बनाना चाहिये कि वे गरीब देशों के विकास एवं प्रगति के लिए बनायी गयी नीतियों एवं कार्यक्रमों का वित्त पोषण कर सकें।

विकास समिति की बैठक में शुक्रवार को ‘असमानता’ विषय पर चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि भारत ने गरीबों के लिए बिजली, सड़क, वित्तीय सेवाओं तक पहुँच तथा आवास पर निवेश काफी बढ़ाया है।

सरकार ने समावेशी विकास सुनिश्चित करने और सरकारी सेवाओं को बेहतर तरीके से लक्षित करने के लिए प्रौद्योगिकी नवाचार की दिशा में कई कदम उठाये हैं।

Related Posts: