कई इलाकों में कम दबाव से हो रहा है पानी सप्लाई

  • जलसंकट की मुख्य वजह गिरता जल स्तर

नवभारत न्यूज भोपाल,

शहर में इन दिनों शैने-शैने विभिन्न इलाकों में जल संकट गहराने लगा है. कई इलाकों में गर्मी का असर बढ़ते ही नलों से कम दाब से जलापूर्ति हो रही है इससे लोग परेशान होने लगे है. हर दिन लोग निगम के कॉल सेंटर पर पानी की शिकायतेें कर रहे है.यही स्थिति रही तो मई में और हालत बिगड़ सकते है.

जानकारी के मुताबिक शहर में गर्मी की आहट शुरू होने के बाद से अब तक पिछले तीन माह में करीब 922 के करीब शिकायतें पहुंची है.मई माह तक ऐसे ही हालत रहे तो शहर में जलसंकट और गहरा जायेगा. हर दिन 90 एमजीडी पानी की होती है सप्लाईशहर में निगम रोजाना इन दिनों 90 एमजीडी ही सप्लाई कर रहा है.इसमें से नर्मदा जल परियोजना से करीब 45 एमजीडी पानी की सप्लाई होती है.

जबकि शहर की आबादी के हिसाब से यहां रोजाना 104 एमजीडी पानी की सप्लाई की जरूरत होती है.ऐसी स्थिति में शहर के विविध इलाकों में जल संकट होना लाजमी है. इसी कारण से पानी की शिकायतों में दिन ब दिन बढ़ोतरी हो रही है.

निगम कॉल सेंटर में सबसे ज्यादा शिकायत तय समय सीमा से कम पानी सप्लाई होने की है। मतलब निगम द्वारा कम समय के लिए ही पानी सप्लाई किया जा रहा है.सप्लाई का दबाव कम और पाइप लाइन लीकेज की भी शिकायतें हैं.

शिकायत पर भेजते है टैंकरों से पानी

निगम के काल सेंटरों पर आने वाली शिकायतों पर संबंधी निगम अमले शिकायत वाले इलाकों में टैंकरों से पानी की व्यवस्था करवा रहा है. लेकिन, कई बार ऐसी भी स्थिति होती है कि समस्या हल करने में समय लगता है. कॉल सेंटर पर आने वाली शिकायतों पर शहर में संबंधित स्थानों पर निगम एक दिन में  4 से 10 टैंकर भेजता है.

बड़ी झील का तेजी से गिर रहा है जलस्तर

अल्प वर्षा के कारण शहर की लाइफ लाइन कहे जाने वाले बड़ी झील का जल स्तर तेजी से गिर रहा है. झील का फुल टेंक लेबल 1666.8 से इस बार 5.3 फीट कम रहा. यहां से रोजना 30 एमजीडी पानी सप्लाई होता है.

भूमिगत जल का स्तर तेजी से गिर रहा

भूमिगत जलस्तर भी शहर में गिर रहा है. अभी से कई इलाकों में भूमिगत जल स्त्रोत पिछले तीन माह से सूखने शुरू हो गये थे. वैसे भी शहर की कई कॉलोनियों जिनमें कोलार,भदभदा सीहोर रोड के आबादी इलाकों में एक हजार फिट नीचे तक बोर करने पर ही पानी मिल रहा है.

 

कुछ इलाकों में लीकेज के कारण कम दबाव से पानी सप्लाई हो रहा है. मगर वर्तमान में सभी क्षेत्रों में बराबर पानी सप्लाई किया जा रहा है. शिकायत वाले इलाकों में टैंकर से पानी भेजने की व्यवस्था पहले से ही है. अविनाश श्रीवास्तव, उपयंत्री,जलकार्य विभाग, ननि भोपाल