spo1नई दिल्ली,  ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम इंडिया में चुने गए स्पिनर अक्षर पटेल सुनील गावस्कर के आलोचनाओं से आहत हैं और वो इस सीरीज में बेहतर प्रदर्शन कर उन्हें गलत साबित करने की कोशिश करेंगे.

कोई भी स्थापित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट भी संभवत: गावस्कर की सलाह पर गौर करता है लेकिन अक्षर जैसे युवा खिलाड़ी के लिए तो यह आंखे खोलने वाला है. विजय हजारे ट्रॉफी में गुजरात की ओर से खेल रहे अक्षर ने अलूर से कर्नाटक से कहा कि ईमानदारी से कहूं तो मुझे झटका लगा. मुझे लगता है कि किसी के भी साथ ऐसा होता. लेकिन फिर मैंने सोचा कि सचिन तेंदुलकर सहित सभी को अपने करियर में कभी ना कभी आलोचना का सामना करना पड़ा. मुझे यकीन है कि अगर मैं सर (गावस्कर) को गलत साबित कर पाया तो उन्हें खुशी होगी.

गावस्कर ने जुलाई में अक्षर को लेकर कड़ी टिप्पणी की थी लेकिन चयनकर्ताओं ने उनकी क्षमता पर भरोसा कायम रखा है, कम से कम खेल के छोटे प्रारूप में.
अक्षर को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर वनडे टीम में जगह मिली है लेकिन वह टी-20 टीम का हिस्सा नहीं हैं. जून 2014 में पदार्पण के बाद से भारत की ओर से 22 वनडे और चार टी-20 खेलने वाले अक्षर ने कहा कि भाग्य से मैं तब (जुलाई) से वनडे टीम का हिस्सा हूं और ठीक-ठाक प्रदर्शन किया है. गावस्कर ने अक्षर को टेस्ट में वैकल्पिक स्पिनर के रूप में खारिज कर दिया था.

Related Posts: