गांधीनगर,

गुजरात विधानसभा के लिए पहले चरण में दक्षिण और सौराष्ट्र-कच्छ क्षेत्र के 19 जिलों की 89 सीटों पर कल चुनाव होगा जिसमें स्वयं मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और 22 साल से राज्य में सत्तारूढ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघाणी समेत कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी होगी।

2012 के पिछले चुनाव में (बीच में हुए कुछ उपचुनावों को छोड़) भाजपा ने इनमें से 63, कांग्रेस ने 22, बाद में भाजपा में विलय करने वाली केशुभाई पटेल की गुजरात परिवर्तन पार्टी ने दो, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी तथा जदयू ने एक एक पर जीत हासिल की थी।

सौराष्ट्र क्षेत्र के 11 जिलों की 49 सीटों में से भाजपा ने 31 कांगेस ने 15, राकांपा ने एक और गुपपा ने दो, दक्षिण गुजरात के सात जिलों की 34 में से 27 पर भाजपा, छह पर कांग्रेस और एक पर जदयू तथा कच्छ जिले की छह में से पांच पर भाजपा और एक पर कांग्रेस ने जीत हासिल की थी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इस गृह राज्य में हो रहे चुनाव को इस बार श्री मोदी और राज्य के ताबड़तोड़ चुनावी दौरे कर रहे तथा कांग्रेस के अगले अध्यक्ष बनने जा रहे निवर्तमान उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बीच प्रतिष्ठा की सीधी जंग माना जा रहा है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी बी बी स्वैन ने बताया कि शांतिपूर्ण मतदान के लिए अर्धसैनिक बलों समेत कुल मिला कर पौने दो लाख सुरक्षाकर्मी तैनात किये गये हैं। सभी साढे 26 हजार से अधिक मतदान केंद्रो पर वीवीपैट के जरिये मतदान होगा। पहले चरण में57 महिलाओं समेत कुल 977 उम्मीदवार मैदान में हैं।

सत्तारूढ भाजपा ने सभी 89 सीटों पर जबकि मुख्य विपक्षी कांग्रेस ने 87 सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं। बसपा ने 64, सपा ने चार, श्री वाघेला के जन विकल्प मोर्चा ने 48, आप ने 21, जदयू ने 14, राकांपा ने 30 और शिवसेना ने 25 प्रत्याशी उतारे हैं। 443 निर्दलीय हैं।

पहले चरण में प्रमुख चेहरों में राजकोट पश्चिम सीट से मुख्यमंत्री श्री रूपाणी, भावनगर पश्चिम से भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघाणी, पोरबंदर से भाजपा के बाबू बोखिरिया तथा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अर्जुन मोढवाडिया तथा मांडवी से कांग्रेस के शक्तिसिंह गोहिल शामिल हैं।

कुल 182 सीटों वाली विधानसभा की शेष 93 सीटों (उत्तर और मध्य गुजरात के 14 जिलों की) पर दूसरे और अंतिम चरण में 14 दिसंबर को चुनाव होगा। मतगणना 18 दिसंबर को होगी।

मतदान सुबह आठ बजे से पांच बजे तक होगा। क्षेत्रफल के हिसाब से सबसे छोटा क्षेत्र कारंज जबकि सबसे बड़ अब्डासा है। वोटरों की संख्या के लिहाज से सूरत उत्तर सबसे छोटा तथा कामरेज सबसे बड़ा है। कुल 2़ 12 करोड मतदाताओं में 1़ 11 करोड़ पुरूष हैं। पचास प्रतिशत वोटर 40 प्रतिशत से कम उम्र के हैं।

Related Posts: