नयी दिल्ली,  कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात में अंतिम चरण के मतदान से एक दिन पहले पार्टी की जीत का विश्वास जताते हुये कहा है कि यह चुनाव एकतरफा और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए चौंकाने वाला सिद्ध हाेगा।

अगले कुछ दिनों में कांग्रेस की कमान संभालने जा रहे श्री गांधी ने आज एक चैनल के साथ बातचीत में कहा कि गुजरात के लोगों में भाजपा के प्रति काफी गुस्सा है और वहां लोगों की सोच बदली है। भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य के लोगों को कोई ‘विजन’ नहीं दे पाये इसलिए ये चुनाव एकतरफा होंगे और भाजपा के लिए चौंकाने वाले होंगे।

इस चुनाव में कांग्रेस के लिए धुंआधार प्रचार कर चुके श्री गांधी ने कहा कि उनकी पार्टी ने राज्य के हर वर्ग से पूछकर अपना घोषणापत्र तैयार किया और राज्य को एक ‘विजन’ दिया है जो वहां की जनता का ‘विजन’ है।

चुनाव प्रचार के दौरान श्री मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर की गयी टिप्पणी के बारे में उन्होंने कहा कि श्री मोदी ने जो कहा है वह प्रधानमंत्री को शोभा नहीं देता। उन्होंने कहा कि श्री सिंह ने अच्छा जवाब दिया है कि वह देश के प्रधानमंत्री रहे हैं। उन्होंने पूरी जिंदगी देश के लिये काम किया है।

श्री मोदी के बारे में श्री मणिशंकर अय्यर की टिप्पणी के संबंध में कांग्रेस नेता ने कहा कि वह साफ संदेश दे चुके हैं कि प्रधानमंत्री देश का प्रतिनिधित्व करते हैं और उस पद का सम्मान होना चाहिए। श्री मोदी से हमारे मतभेद हैं वह हमारे बारे में चाहे जो भी बोलें लेकिन कांग्रेस की ओर से उस तरह की बात नहीं की जायेगी।

कांग्रेस मुक्त भारत बनाने के श्री मोदी के बयान के बारे में श्री गांधी ने कहा कि कांग्रेस एक विचारधारा है जो प्यार और सबको साथ लेकर चलने की बात करती है। इससे भारत को मुक्त नहीं किया जा सकता है। कांग्रेस अध्यक्ष के रुप में वह इस विचारधारा को फैलाने का काम करेंगे। उनका प्रयास राजनीतिक संवाद के तौरतरीकों को बदलने का होगा। गुस्से से नहीं प्यार से बातचीत होनी चाहिये।

Related Posts:

सर्वे से पहले किसानों को राहत दे सरकार
अर्जेन्टीना में बस दुर्घटना, 43 की मौत
अनुसूचित जाति अत्याचार निवारण संशाेधन विधेयक पर संसद की मुहर
तीन तलाक के पीछे भाजपा का कोई छिपा एजेंडा नहीं : रविशंकर प्रसाद
एटा में भीषण सड़क दुर्घटना 24 बच्चों की मृत्यु, 30 से अधिक घायल
देश में उत्कृष्ट विश्वविद्यालयों की आवश्यकता: वेंकैया