निपटाया था डोकलाम विवाद

नई दिल्ली,

चीन में भारत के राजदूत रह चुके और डोकलाम विवाद सुलझाने में अहम भूमिका निभाने वाले विजय केशव गोखले को देश का अगला विदेश सचिव नियुक्त किया गया है.

गोखले की नियुक्ति के संबंध में आधिकारिक आदेश जारी कर दिया गया है. उनका कार्यकाल 2 साल का होगा. मौजूदा विदेश सचिव एस. जयशंकर का कार्यकाल 28 जनवरी को समाप्त हो रहा है. 1981 बैच के आईएफएस अधिकारी गोखले फिलहाल विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) पद पर तैनात हैं.

गोखले बतौर राजदूत जर्मनी में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. उन्होंने हॉन्गकॉन्ग, चीन और अमेरिका में भी अपनी सेवाएं दी हैं. कैबिनेट की अपॉइंटमेंट्स कमिटी ने विदेश सचिव पद पर गोखले की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है. कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह जानकारी दी गई है. गौरतलब है कि गोखले ने चीन में राजदूत रहने के दौरान डोकलाम विवाद को कुशलतापूर्वक निपटाने में अहम भूमिका निभाई थी.

दरअसल, विवाद टालने के लिए बीजिंग में भी भारत की ओर से खास कूटनीतिक प्रयास किए गए थे.इसकी तैयारी चीन में भारत के राजदूत विजय केशव गोखले ने ही की थी. उच्चस्तरीय सूत्रों की मानें तो उन्होंने अपने कूटनीतिक कौशल का इस्तेमाल करते हुए चीन को झुकने पर मजबूर किया. जयशंकर को 29 जनवरी 2015 को दो वर्षों के लिए देश का विदेश सचिव नियुक्त किया गया था. पिछले साल जनवरी में उनका कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ा दिया गया था.