नयी दिल्ली,

लगातार हार झेल रही दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम को यदि अब आईपीएल-11 में वापसी करनी है तो उसके कप्तान गौतम गंभीर को अपनी फार्म में गंभीरता दिखानी हाेगी।

आठ साल बाद दिल्ली की टीम में लाैटकर कप्तानी संभाल रहे गंभीर ने मौजूदा टूर्नामेंट में अब तक बेहद निराशाजनक प्रदर्शन किया है और वह छह मैचाें में 17.00 के मामूली औसत से मात्र 85 रन बना पाये हैं। इसमें उनका सर्वाधिक स्कोर 55 रन रहा है जो उन्होंने पहले मैच में मोहाली में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ बनाया था।

आईपीएल में दो बार कोलकाता नाइटराइडर्स के लिये विजेता कप्तान रह चुके गंभीर ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ जयपुर में दूसरे मैच में बल्लेबाजी नहीं की थी और इसके बाद अगले चार मैचों में उन्होने 15,8, 3 और 4 जैसे बेहद खराब स्कोर बनाये हैं। कप्तान के इस तरह सस्ते में आउट होने का सीधा असर दिल्ली की बल्लेबाजी पर पड़ रहा है।

दिल्ली के सामने कल अपने घरेलू मैैदान फिरोजशाह कोटला में पंजाब के 143 रन की चुनौती थी लेकिन गंभीर 13 गेंदों में चार रन बनाकर आउट हुये और दिल्ली आठ विकेट पर 139 रन बनाकर चार रन से यह मैच हार गयी। दिल्ली की छह मैचों में यह पांचवीं हार थी जिससे उसकी प्लेऑफ की राह लगातार मुश्किल होती जा रही है। दिल्ली को यदि प्लेऑफ में पहुंचना है तो उसे अपने लगभग सभी शेष मैच जीतने होंगे।

36 वर्षीय गंभीर की बल्लेबाजी में गिरावट हैरान करने वाली है क्योंकि पिछले संस्करण में उन्होंने 16 मैचों में 498 रन बनाये थे और सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान डेविड वार्नर के 641 रन के बाद दूसरे स्थान पर रहे थे। गंभीर ने 2016 के सत्र में 15 मैचों में 501 रन बनाये थे और सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों में चौथे नंबर पर रहे थे।