नई दिल्ली,  देश की ग्रोथ की रफ्तार थोड़ी थम गई है। वित्त वर्ष 2016 की तीसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ घटकर 7.3 फीसदी रही है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7.7 फीसदी रही थी। वहीं वित्त वर्ष 2016 में जीडीपी ग्रोथ 7.6 फीसदी रहने का अनुमान है। पहले वित्त वर्ष 2016 में जीडीपी ग्रोथ 7.2 फीसदी रहने का अनुमान था।

वित्त वर्ष 2016 की तीसरी तिमाही में जीवीए घटकर 7.1 फीसदी रहा है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में जीवीए 7.5 फीसदी रहा था। वित्त वर्ष 2016 में जीवीए 7.3 फीसदी रहने का अनुमान है। इससे पहले वित्त वर्ष 2016 में जीवीए 7.1 फीसदी रहने का अनुमान था। जीवीए के बारे में हम आपको बताते हैं कि ये क्या होता है। जीवीए में प्रोडक्ट पर टैक्स जोडऩे के बाद सब्सिडी को घटाकर जीडीपी का आंकड़ा निकाला जाता है।

वित्त वर्ष 2016 की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7 फीसदी से संशोधित होकर 7.6 फीसदी हो गई है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7.4 फीसदी से संशोधित होकर 7.7 फीसदी हो गई है।

तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में एग्री सेक्टर की ग्रोथ 2 फीसदी से घटकर -1 फीसदी रही है। तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ 5 फीसदी से बढ़कर 6.5 फीसदी रही है। तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ 9 फीसदी से बढ़कर 12.6 फीसदी रही है। तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में इलेक्ट्रिसिटी, गैस, वाटर सप्लाई ग्रोथ 7.5 फीसदी से घटकर 6 फीसदी रही है। तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में कंस्ट्रक्शन सेक्टर की ग्रोथ 1.2 फीसदी से बढ़कर 4 फीसदी रही है।

तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में ट्रेड, ट्रांसपोर्ट ग्रोथ 8.1 फीसदी से बढ़कर 10.1 फीसदी रही है। तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में डिफेंस ग्रोथ 7.1 फीसदी से बढ़कर 7.5 फीसदी रही है। तिमाही आधार पर तीसरी तिमाही में रियल एस्टेट ग्रोथ 11.6 फीसदी से घटकर 9.9 फीसदी रही है।