mp1अशोकनगर/ईसागढ़,   श्रद्धा से शीश झुकाने जा रहे श्रृद्धालुओं के जत्थे में अचानक मातम पसर गया.मां के दरबार में झण्डा और चुनरी चढ़ानें ग्रामवासियों की टोली विगत रोज ग्राम बमनावर से कदवाया की ओर हंसी-खुशी में निकली थी.लेकिन बीच में ही ईसागढ़ स्थित कदवाय रोड़ पर सड़क हादसे में 70 वर्षीय महिला एवं 3 वर्षीय बालिका की दुखद मौत ने समूचे माहौल में दर्द के साथ शोक का वातावरण घोल दिया.

मां बीजासन मंदिर की ओर श्रृद्धालुओं का जत्था चुनरी लेकर निकल रहा था.जिसमें बमनावर गांव से टै्रक्टर-ट्रॉली में सवार एक ही परिवार के कुछ लोग भी उक्त यात्रा में शामिल थे.ईसागढ़ से निकलने पर टे्रक्टर चालक द्वारा अचानक ब्रेक लगा देने से बोनट पर बैठी गोकुलबाई 70 वर्ष एवं उसका नातिन रिंकी 3 वर्ष दुर्घटना का शिकार होकर दर्दनाक मौत हो गई.

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को सुबह 9 बजे के लगभग कदवाया रोड़ स्थित भारत माता स्कूल के सामने एक ट्रेक्टर से एक वृद्घा और एक बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई.गौरतलब है कि ग्राम बमनावर से माता बीजासन के मंदिर पर कदवाया के लिये 200 से अधिक लोग चुनरी यात्रा ले जा रहे थे कि अचानक सड़क पर बने गड्ढे में ट्रेक्टर का पहिया आने से दोनों उछलकर ट्रॉली के पहिये की नीचे आ गईं.जिससे घटना स्थल पर ही उनकी दर्दनाक मौत हो गई.मृतकों में एक बृद्घा गोकुल बाई उम्र 70 बर्ष एवं एक बच्ची रेती 3 बर्ष निवासी बमनावर थीं.

उक्त घटना से मौत का शिकार हुईं दादी और उसकी नातिन को देखते हुए श्रृद्धालुओं सहित मौजूद लोगों ने गहरा दुख जताया.

तो उक्त घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस थाना ईसागढ़ ने मृतकों के शव परीक्षण कराकर परिजनों को सौंपे हैं.सड़क हादसे के उक्त मामले पर पुलिस ईसागढ़ का कहना है कि चालक सुखजीत लोधी की लापरवाही एवं सड़क पर आए अचानक गढ्डे के तालमेल से ही उक्त दुर्घटना हुई है.जिसपर टै्रक्टर-ट्रॉली जप्त कर चालक के विरूद्ध पुलिस ने 304 ए का मामला दर्ज किया है.

Related Posts: