26kk3बीजिंग, 26 अगस्त. उडऩपरी पीटी उषा की शिष्या टिंटू लूका सत्र का अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के बावजूद यहां विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में बुधवार को महिलाओं की 800 मीटर स्पर्धा के सेमीफाइनल में क्वालिफाई नहीं कर सकीं लेकिन उन्होंने अगले वर्ष होने वाले रियो ओलंपिक के लिये क्वालिफाई कर लिया जबकि राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोडऩे वाली ललिता शिवाजी बाबर ने महिलाओं की 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा में आठवां स्थान हासिल किया.

पूर्व एशियाई चैंपियन ललिता ने सोमवार को नौ मिनट 27.86 सेकेंड का समय लेकर अपना राष्ट्रीय रिकार्ड तोड़ा था और फाइनल में जगह बनायी थी. फाइनल में भारतीय एथलीट ने भरसक कोशिश की लेकिन वह नौ मिनट 29.64 सेकेंड का समय निकालकर आठवें स्थान पर रहीं. ललिता यदि हीट का अपना प्रदर्शन दोहरा देतीं तो भी उन्हें आठवां स्थान ही मिलता. केन्या की हाइविन कीयेंग जेपकेमोई ने नौ मिनट 19.11 सेकेंड का समय लेकर इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीता. ललिता पहली भारतीय एथलीट बनीं थी जिन्होंने विश्व चैंपियनशिप में 3000 मी. स्टीपलचेज के फाइनल के लिये क्वालिफाई किया था. फाइनल में उनका प्रदर्शन सराहनीय रहा मगर यह पदक दिलाने के लिये काफी नहीं था.
इससे पहले एशियाई चैंपियन टिंटू ने 800 मी. दौड़ में सत्र का अपना सर्वश्रेष्ठ दो मिनट 00.95 सेकंड निकाला लेकिन वह अपनी हीट में सातवें स्थान पर रही. टिंटू सेमीफाइनल में तो नहीं पहुंच सकी लेकिन यह समय उन्हें ओलंपिक का टिकट दिलाने के लिये पर्याप्त था और यही बात उनके लिये राहत वाली रही.

Related Posts: