bpl1भोपाल,   शहर के जिंसी चौराहे स्थित बस स्टॉप पर अतिक्र मण कर बनी चाय की दुकान जिससे नेता प्रतिपक्ष पर वसूली के आरोपों और कांग्रेस पार्षद दल के कार्यालय को लेकर परिषद की बैठक में जमकर हंगामा हुआ.

हंगामें में कांग्रेस की गुटबाजी सामने नजर आई . नेताप्रतिपक्ष पर उनके ही दल के वरिष्ठï कांग्रेस पार्षद ने आरोप जड़े. वहीं बैठक में मंत्री उमांशकर गुप्ता गुण्डागिर्दी बंद करो और पार्षद अमित शर्मा चोर है के नारे जमकर गूंजे. साथ ही बैठक आरंभ होने के सार्थ ही एक महिला कांग्रेेस पार्षद द्वारा संकल्प की पुष्टïी न होने का मुद्ïदा छेड़ दिया गया.ें पानी की समस्या और बारिश को लेकर नालों पर अतिक्रमण पर कोई चर्चा नहीं हुई.

नगर निगम परिषद की बैठक सोमवार को आईएसबीटी सभागृह में आहुत की गई. शहर में पानी की समस्या को लेकर कांग्रेस द्वारा मुख्यालय के बाहर की मटका फोड़ा. बैठक आरंभ होते ही वार्ड क्र.24 की पार्षद शबिस्ता सुल्तान ने आसंदी पर से संकल्प की घोषणा कर रहे परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान को रोक कहा कि आप यह नहीं कर सकते, इसका कारण था कि जब तक पार्षद द्वारा मंागी गई जानकारी पर आपकेे दस्तकत के साथ मोहर न हो तो वह मान्य नहीं होता. मेरे द्वारा मांगी गई जानकारी पर आपके हस्ताक्षर के नीचे मोहर नहीं है. इसपर कांग्रेस पार्षद दल ने आरंभ में ही हंगामा कर दिया. जिसकी जानकारी जब परिषद अध्यक्ष ने अपर आयुक्त प्रदीप वर्मा से मांगी तो वह इधर-उधर होते नजर आए. इसपर निगम परिषद अध्यक्ष ने व्यवस्था दी.

बेहतर रही व्यवस्था
सोमवार को हुई परिषद की बैठक में निगम परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह द्वारा पार्षदों के वाहन पार्किंग सहित विधानसभा की तरह अंदर प्रवेश के पास उपलब्ध कराए. इसी के साथ उनके साथ एक अन्य के लिए भी पास दिए गए. वहीं पत्रकारों और छायाकारों को भी पास दिए गए. इस व्यवस्था हमेशा बैठक में उससे संबंध न रखने वालों की भीड़ भी वहां हो जाती थी. जिससे पत्रकारों सहित छायाकारों को दिक्कतें आती थी. इतना ही नहीं भोजन व्यवस्था में भी काफी सुधार रहा.

परिषद अध्यक्ष की वार्निंग
बैठक में वार्ड क्र.19 के पार्षद शाहवर मंसूरी द्वारा अपने प्रश्रों के सवाल पर अपशब्दों को प्रयोग किया गया. वहीं आसंदी पर बैठे कांग्रेस के कई पार्षदों ने अपने सवालों को लेकर परिषद का काफी वक्त जाया किया. जिसपर अन्य पार्षद अपने प्रश्रों के उत्तर न पाने पर भड़के जिन्हें परिषद अध्यक्ष द्वारा समझाईश दे अपशब्दों और परिषद की गरीमा के खिलाफ बोल रहे पार्षदों को निगम अध्यक्ष द्वारा वार्निंग दी गई.

प्रस्ताव पारित
नगर निगम के स्वामित्व की विभिन्न क्षेत्रों में 38 दुकानों को मप्र नगर पालिका नियम-2016 क नियम-5 के अनुसार 5 लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगर पालिक निगम को संपत्ति का मूल्य रूपए 10 करोड तक की स्वीकृति के प्रस्ताव को बहुमत के साथ पारित किया गया. वहीं अचल संपत्ति अंतरण नियम-2016 के प्रावधानों के अंतर्गत संंक्षेपिका में दर्शाये गये अनुसार मालवीय नगर स्थित भूखण्डों की लीज अवधि समाप्त होने से आगामी 30 वर्षो के लिए संशोधित शर्ताै के साथ, लीज नवीनीकरण एवं अन्य क्षेत्रों की लीज नवीनीकरण प्रस्ताव को भी सर्वसम्मती से प ारित कर दिया गया.

हाल ही में कुछ दिन पूर्व वार्ड क्र.46 के पार्षद अमित शर्मा द्वारा अपने ढाबे स्थित रातीबढ़ में निगम के पेविंग ब्लाक लगाए जाने की एफआईआर टी.टी.नगर थाने की गई थी. जिसका मुद्ïदा एमआईसी शंकर मकोरिया द्वारा उठाया और कहा कि इनपर निगम के सामान की चोरी सिध्द हो चुकी है, इन्हें परिषद से बर्खास्त करना चाहिए . इस बात को लेकर जमकर परिषद सभागृह नारों के साथ हंगामें से गंूज उठा.

भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दल आसंदी के सामने आ गए और भाजपा ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए पार्षद अमित शर्मा चोर है तो वहीं कांग्रेस ने मंत्री उमाशंकर गुप्ता गुण्डागिर्दी बंद करो के नारे लगाते हुए कहा कि एमआईसी शंकर मकोरिया के फर्जी तरीके से अपने 5 लोगों को मंत्रालय इंदिरा गांधी मार्केट से अर्जुन नगर फेस-2 में आवास आंवटन कराएंग हैं. परन्तु बाद में इस मुद्ïदे पर 5 मिनीट के विराम के बाद किसी प्रकार की कोई भी व्यवस्था या निर्देश के मामला शांत हो गया.

Related Posts: