ग्वालियर, सरकारी हॉस्पिटल में महिला चिकित्सक ने एक प्रसूता को भर्ती करने से मना कर दिया. इस पर महिला के परिजनों ने डॉक्टर से कई बार उसे भर्ती करने की मिन्नत की, लेकिन प्रसूता को दर्द से कराहता हुए देखने के बाद भी महिला चिकित्सक दिल नहीं पसीजा.

जिसके चलते प्रसूता को पेड़ के नीचे लिटा दिया. वहीं उसने रात को हॉस्पिटल कैंपस में पीपल के पेड़ के नीचे ही महिला ने जुड़वां बच्चों को जन्म दे दिया। पेड़ के नीचे जन्म लेते ही दोनों बच्चों की मौत हो गई। सुबह इस खबर की जानकारी मिलने के बाद अधिकारी हरकत में आ गए और डॉक्टर सहित तीन नर्सों को सस्पेंड कर दिया है।

भिंड जिले के मालनपुर क्षेत्र के अन्र्तगत आने वाले हरिराम की कुइआ में रहने वाले हेम सिंह अपनी गर्भवती पत्नी ममता के साथ मुरार के सरकारी हॉस्पिटल मंगलवार की शाम को सात बजे पहुंचे। वहां ड्यूटी पर डॉ. संध्या पांडे मौजूद थीं. हेमसिंह ने अपनी पत्नी को भर्ती करके डिलेवरी करने के लिए कहा, जिस पर महिला चिकित्सक ने जबाव दिया कि अभी बाहर टहल लो, क्योंकि डिलेवरी का समय नहीं हुआ. उधर ममता का दर्द बढ़ता जा रहा था.

हेम सिंह और ममता के परिजनों ने कई बार लेडी डॉक्टर से कहा लेकिन वह नहीं मानी और बोली, जल्दी है तो कमलाराजा हॉस्पिटल ले जाओ।

Related Posts:

स्कूली ड्रेस खरीदने के लिए जारी दर्जनों चैक हुए बाउंस
डकैती की योजना बनाते धराए आरोपी
प्रदेश के पचासों जिलों में निर्मित की जाएंगी हवाई पट्टी : मुख्यमंत्री
किसानों की दुर्दशा का जवाबदार केन्द्र
जोरदार बारिश ने राजधानी के सामान्य जनजीवन को किया अस्तव्यस्त
अतिक्रमण टूटने से दुखी भाजपा नेताओं ने तोमर के समक्ष अपना दुखड़ा रोया