nobelस्टॉकहोम,  चिकित्सा के क्षेत्र में साल 2015 का नोबेल पुरस्कार आयरलैंड में जन्मे विलियम कैंपबेल, चीन की तू योउयोउ व जापान के संतोषी ओम्यूरा ने जीता है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की एक रपट के मुताबिक, नोबेल एसेंबली ने स्वीडन के कैरोलिंस्का इंस्टीट्यूट में सोमवार को यह घोषणा की.

तू योउयोउ: 30 दिसंबर, 1930 को जन्मी चीनी चिकित्सा विज्ञानी तथा शिक्षक तू योउयोउ को सबसे ज्यादा मलेरिया के खिलाफ कारगर दवा की खोज के लिए जाना जाता है. उन्हें अपने कार्यों के लिए 2011 का लश्कर अवार्ड से नवाजा जा चुका है.

संतोषी ओम्यूरा: जापानी बायोकैमिस्ट संतोषी ओम्यूरा का जन्म 12 जुलाई, 1935 को हुआ था. उन्हें दवाओं के क्षेत्र में कई माइक्रोऑर्गेनिज्म विकसित करने के लिए जाना जाता है. उन्हें यह पुरस्कार संक्रमणों के खिलाफ नई उपचार पद्धति विकसित करने के लिए मिला है.

विलियम कैंपबेल: 1930 में जन्मी आयरिश बायोकैमिस्ट विलियम सी. कैम्पबेल, ने ग्रेजुएशन डबलिन (आयरलैंड) के ट्रिनिटी कॉलेज और पीएचडी यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन से पूरी की. वर्ष 1957 से 1990 तक वह मर्क

Related Posts:

एक क्लिक पर भोपाल पुलिस की जानकारी
डॉक्यूमेंट्री विवाद: संसद में हंगामा, तिहाड़ के डीजी तलब
मार्च फॉर इंडिया के लिए जबर्दस्त समर्थन
राष्ट्र विरोधी नारा लगाने वाले को छह इंच काट देंगे : दिलीप घोष
मेधावियों को मिलेंगे लैपटॉप, मुख्यमंत्री ने किया 'स्कूल चलें हम' अभियान का शुभार...
सांस्कृतिक, सामाजिक सौहार्द के बिना विकास संभव नहीं : नकवी