दो युवाओं की मौत के बाद एक निजी अस्पताल पर उठे सवाल

  • लोगों का आक्रोश उतरा सडक़ों पर
  • रैली निकालकर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

नवभारत न्यूज मंदसौर

बद से बदतर होती जा रही चिकित्सा व्यवस्था और युवाओं की बेवक्त मौत से आहत हजारों नगरवासीयो ने गुरुवार को दिवंगत युवा प्रवीण शर्मा के उठावना होने के पश्चात मौन जुलूस के रूप में सिटी कोतवाली पहुंचकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम एक ज्ञापन एसडीएम, एस. एल. शाक्य को सौंपा।

ज्ञापन में उल्लेख किया गया कि मंदसौर नगर वासी चिकित्सकीय संसाधनों और योग्य डॉक्टरों के अभाव में मौत के साए में जी रहे हैं स्थिति बेहद गंभीर होती जा रही है, जिला चिकित्सालय का विशाल भवन केवल रेफरल केंद्र हो गया है क्योंकि यहां विशेषज्ञों के पद बड़ी मात्रा में सालो से रिक्त हैं दूसरी ओर मल्टी स्पेशलिटी केंद्र के नाम से हाल ही में सिद्धि विनायक हॉस्पिटल खुला है लेकिन यह हॉस्पिटल न होकर केवल मरीजों की जेब पर पर डाका डालने की मशीन साबित हो रहा है।

जिसके कारण मरीजों का न तो ठीक से यहां परीक्षण हो रहा है और ना ही गंभीर बीमारी का पता लग पा रहा है ,इनकी लापरवाही से कई मरीज बेवक्त की मौत मर रहे हैं। एक सप्ताह में दो होनहार युवक जुगल गोयल और प्रवीण शर्मा ( बब्बू) ,की मौत चरमराती चिकित्सा व्यवस्था का दुष्परिणाम है। शासकीय एवं नगर के निजी नर्सिंग होम में तो त्वरित उपचार की व्यवस्था है और न ही संसाधन।

सिद्धि विनायक अस्पताल कहने को मल्टी स्पेशलिटी केंद्र है लेकिन यहां विशेषज्ञ यहां विशेषज्ञ लेकिन यहां केंद्र है लेकिन यहां विशेषज्ञ यहां विशेषज्ञ लेकिन यहां विशेषज्ञ चिकित्सक ही नहीं है। ऐसे में आम व्यक्ति व्यक्ति भ्रमित होकर अस्पताल जाते हैं लेकिन उन्हें यहां समुचित उपचार नहीं मिल पा रहा है ।

13 मार्च मंगलवार को 36 वर्षीय प्रवीण शर्मा( बब्बू )को लगभग सुबह 10 बजे सीने में दर्द और घबराहट हुई जिसके बाद उनके पिता महेश शर्मा उन्हें सिद्धि विनायक हॉस्पिटल लेकर गए वहां उपस्थित चिकित्सक ने ईसीजी सहित अन्य जांच की और प्रवीण को पूरी तरह स्वस्थ बताकर घर ले जाने की सलाह दी।

प्रवीण के घर लौटते ही उसे पुन: घबराहट हुई तत्काल एंबुलेंस की मदद से उसे जिला चिकित्सालय ले जाया गया। लेकिन तब तक प्रवीण का निधन हो गया था । ज्ञापन में कहा गया कि नगर व क्षेत्र वासी मुख्यमंत्री से मांग करते हैं कि मंदसोर के जिला चिकित्सालय को आधुनिक चिकित्सकीय संसाधनों से युक्त किया जाए ,डॉक्टरों के खाली पड़े पदों की पूर्ति की जाए।

मंदसौर जिला चिकित्सालय की लापरवाही से एक सप्ताह पूर्व जुगल गोयल की भी म्रत्यु हो चुकी है, जुगल गोयल के उपचार में लापरवाही बरतने चिकित्सक एवं सिद्धि विनायक हॉस्पिटल की चिकित्सा सेवा का परीक्षण कराकर युवा होनहार प्रवीण शर्मा के उपचार में हुई लापरवाही की उच्चस्तरीय जांच कराकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

ताकि आगे से शहर का कोई युवा चिकित्सक की लापरवाही का शिकार ना हो जाए। ज्ञापन का वाचन नगर पालिका नगर पालिका पालिका अध्यक्ष प्रह्लाद बंधवार ने किया।इस अवसर पर पान विक्रेता संघ ने भी ज्ञापन दिया जिसका वाचन रूप नारायण मोदी ने किया। संचालन वरिष्ठ पत्रकार बृजेश जोशी ने किया, आभार मंदसौर जिला प्रेस क्लब अध्यक्ष नरेंद्र अग्रवाल ने माना।

संविदा कर्मचारियों के समर्थन में रजक समाज

शाजापुर. अपनी एक सूत्रीय मांग को लेकर हड़ताल पर डटे संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों के समर्थन में अब रजक समाज भी उतर आया है. साथ ही संविदा कर्मचारियों की मांग पूरी नही करने पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने की चेतावनी भी समाज द्वारा दी जा रही है.

उल्लेखनीय है कि हड़ताल पर बैठे संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी लगातार 25 दिनों से अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं, और इसीके चलते गुरुवार को भी हड़ताली कर्मचारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय परिसर में धरने पर बैठे रहे.

कर्मचारियों की इस हड़ताल को जायज बताते हुए अखिल भारतीय धोबी महासंघ के बैनरतले रजक समाज के लोगों ने कर्मचारियों का समर्थन करते हुए पत्र सौंपा. साथ ही सरकार को चेतावनी देते हुए समाज के लोगों ने कहा कि यदि संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की एक सूत्रीय मांग पूरी नही की गई तो रजक समाज अपना कारोबार बंद रखकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए सडक़ पर उतर आएगा.

Related Posts: