chinaबीजिंग,  चीन ने कहा है कि वह परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत के प्रवेश का विरोध जारी रखेगा और इस संबंध में अपने रूख से पीछे नहीं हटेगा।

यह संकेत कल चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने भारत के राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की चार दिन की चीन यात्रा शुरू होने से पहले दिया। श्री मुखर्जी आज से चीन की यात्रा शुरू कर रहे हैं। प्रवक्ता ने कहा कि चीन भारत को इस समूह में शामिल करने का विरोध इस आधार पर कर रहा है कि उसने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किये हैं।

प्रवक्ता हुआ चनयिंग ने कहा कि चीन की यह राय है कि परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में इस बात पर चर्चा होनी चाहिये कि इस समूह में परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले देशों को शामिल किया जाना चाहिये या नहीं। प्रवक्ता ने कहा कि यह बात पाकिस्तान पर भी लागू होती है।

भारत ने हाल में कहा था कि परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में शामिल होने के लिए परमाणु अप्रसार संधि में शामिल होना बाध्यकारी नहीं है। भारत में इस संंबंध में फ्रांस का उदाहरण दिया था लेकिन चीनी प्रवक्ता ने कहा कि फ्रांस इस समूह का संस्थापक सदस्य होने के नाते इसमें शामिल है।