17arunनई दिल्ली, 17 मार्च. संसद में कई महत्वपूर्ण विधेयकों के अटके रहने के बीच सरकार ने आज विपक्ष से अपील की कि वह ‘बाधाकारी भूमिका’ नहीं अपनाये क्योंकि देश को अपनी विकास दर को अगले वर्ष तक 8 प्रतिशत से अधिक ले जाकर चीन से आगे निकलने का ‘ऐतिहासिक अवसर’ मिला है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आम बजट पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा सरकार अर्थव्यवस्था में विकास दर को बढ़ाये बिना वर्तमान संसाधनों के पुनर्वितरण की गलती को नहीं दोहरायेगी और वृद्धि दर को 7 से 8 प्रतिशत तक ले जाकर अपने संसाधनों को इतना सक्षम बनायेगी ताकि गरीबी उन्मूलन एवं सामाजिक सुरक्षा के लिए पर्याप्त धन दिया जा सके. जेटली ने कहा हमें निवेश की जरूरत है. हमें घरेलू निवेश की जरूरत है.

निवेश की जरूरत
हमें अंतरराष्ट्रीय निवेश की जरूरत है. निवेश से रोजगार सृजित होगा, निवेश से लाभ अर्जित कर सकेंगे. निवेश आयेगा तब हम सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में पैसा लगा सकेंगे. अगर ऐसा माहौल नहीं बनाया गया तब निवेश नहीं होगा और देश कारोबारियों का बन कर रह जायेगा, विनिर्माताओं का नहीं बन पायेगा.”

Related Posts: