cgरायपुर,   छत्तीसगढ़ में पिछले तीन साल के दौरान सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच 543 से ज्यादा एनकाउंटर हुए हैं और इनमें 128 नक्सली मारे गए और 100 पुलिसकर्मी शहीद हो गए. सबसे ज्यादा 52 नक्सली अकेले राज्य के बीजापुर जिले में मारे गए.

इस बात की जानकारी सोमवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय कार्य मंत्री अजय चंद्राकर ने दी. इस बारे में कांग्रेस विधायक दीपक बैज ने सवाल पूछा था. सवाल के लिखित जवाब में चंद्राकर ने बताया कि साल 2013 से जनवरी 2016 तक राज्य के माओवाद प्रभावित इलाकों में 543 मुठभेड़ें हुई हैं.

नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में सबसे ज्यादा 52 नक्सली मारे गए और 14 पुलिसकर्मी शहीद हो गए. वहीं सुकमा जिले में 29 नक्सली मारे गए जबकि 48 पुलिसकर्मी शहीद हो गए. मंत्री ने कहा कि इस दौरान 852 नक्सलियों ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया जिन्हें लगभग 149.37 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी गई. इनमें से आत्मसमर्पण करने वाले 20 नक्सलियों को सरकारी नौकरी दी गई है.

Related Posts: