आरती की आत्महत्या को लेकर लोगों में भारी आक्रोश, राजधानी में जगह-जगह हो रहे प्रदर्शन

भोपाल,

गौतम नगर थाना अंतर्गत छेड़छाड़ से तंग आकर फांसी लगाकर जान देने वाली छात्रा आरती की मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गयाहै.

राजधानी में छात्रा की हत्या के बाद हो रहे प्रदर्शन व आक्रोश को देखते हुए यह जांच सौंपी गई है. गौतम नगर पुलिस भी इस मामले को लेकर अभी तक एक दर्जन के करीब लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है. इसके साथ ही आरती आत्महत्या का मामला विधानसभा में भी गूंजा , वहीं कांग्रेस ने देर शाम प्रदर्शन कर आरोपी को सख्त से सख्त दंड दिलाने की मांग की.

आरती की मौत की जानकारी सामने आने के बाद लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है. हिंदू संगठन के अलावा अन्य सामाजिक संगठन भी इसको लेकर विरोध दर्ज करा रहे हैं, उनका कहना है कि पुलिस छेड़छाड़ की घटनाओं को गंभीरता से नहीं लेती, जिसकी वजह से ऐसे हादसे घटित होते हैं. यहां बता दें कि आरती गीतांजलि कॉलेज की बीकॉम द्धितीय वर्ष की छात्रा थी.

उसे दानिश नाम का युवक छेड़ता था, जिससे तंग आकर उसने यह कदम उठाया था. मुख्यमुंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आईजी जयदीप प्रसाद को महिलाओं की सुरक्षा को लेकर निर्देश दिए हैं, उन्होंने कहा है कि सामाजिक संगठन के साथ मिलकर ऐसा प्रयास करें कि महिलाओं को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हो. वहीं बुधवार की शाम पुलिस ने गुंडों के विरूद्घ अभियान चलाया.

पंचमी के दिन दानिश ने मचाया था बवाल

छात्रा आरती की खुदकुशी के मामले में नित नई नई बातें सामने आ रही हैं, साथ ही पुलिस की लापरवाही भी सामने आ रही है. मृतका की मां आशा के अनुसार आरोपी दानिश उनके घर के सामने स्थित किराना दुकान पर घंटो तक खड़ा रहता था.

रंगपंचमी के दिन स्थानीय रहवासियों ने दुकान पर खड़े होने की वजह पूछी थी, तब दानिश वहां से चला गया और बाद में कुछ लोगों के साथ आकर मोहल्ले में विवाद किया. इस मामले की शिकायत जब थाने में की गई तो पुलिस ने दोनों पक्षों में राजीनामा करा दिया था.

शून्यकाल में कांग्रेस विधायक ने उठाया मुद्दा

शून्यकाल के दौरान कांग्रेस विधायक रामनिवास रावत ने कहा कि आरती की आत्महत्या से पूरे भोपाल में लोगों में आक्रोश है, लोग आंदोलन करने पर उतर आए है. इस पर स्थगन प्रस्ताव दिया है, इस पर चर्चा होनी चाहिए. वहीं नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश मे महिला अपराध लगातार बढ़ रहे है. इसके बावजूद सरकार कुछ नहीं कर रही है.

चर्चा ना होने पर कांग्रेस ने सदन से वॉकआउट कर दिया. वहीं विपक्ष के हंगामे के बीच गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि प्रदेश में महिला अपराधों को लेकर वैज्ञानिक सर्वे करवाया जाएगा. इसमें एनजीओ और समाज दोनों की मदद ली जाएगी. इसके साथ ही सरकार इसके लिए विशेष अभियान भी चलाएगी.

पीएम रिपोर्ट को लेकर पुलिस ने साधी चुप्पी

छात्रा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट को लेकर पुलिस अफ सरों ने चुप्पी साध ली है. दरअसल सुसाइड करने से पहले कॉलेज से लौटते समय आरोपी दानिश ने उस पर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की थी. इससे दहशत में आई छात्रा ने अपने घर पहुंचकर आत्महत्या कर ली थी. पीएम रिपोर्ट आने से उसके शरीर पर चोट को लेकर भी स्थिति साफ हो जाएगी. वहीं अफ सरों का कहना है कि उन्हें अभी फुल पीएम रिपोर्ट नहीं मिली है, शार्ट पीएम में फांसी से मौत होना बताया गया है.

आरती को इंसाफ दिलाने हिंदू महासभा मैदान में

आरती को इंसाफ दिलाने जे लिए हिंदूमहासभा ने सायं 4 बजे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का का पुलता जलाया. आरोप है कि आरती रॉय को आत्महत्या करने के लिए दानिश अली और दोस्तों द्वारा मजबूर किया गया था. चार दिन के बाद भी आरोपी दानिश अली को अतिथि दामाद की तरह जेल में रखा गया है और भाजपा की ओर से कोई भी नेता आरती के परिजनों से मिलने तक नहीं गया. यह बात अखिल भारत हिंदूमहासभा आईटी सेल के राष्ट्रीय प्रभारी पीके तिवारी को रास नहीं आई.

तिवारी ने भाजपा की घोर निंदा करते हुए मध्यप्रदेश को भाजपा सरकार से मुक्त कराने के लिए आंदोलन की घोषणा की है. तिवारी ने बताया हिंदूमहासभा प्रदेश स्तर पर भाजपा सरकार की इस तुष्टीकरण की राजनीति का हर सम्भव तरीके से विरोध करेगी.

Related Posts: