bpl4भोपाल,  ‘पापा मुझे घूमने फिरने का बहुत शौक है. आप मुझे घूमने फिरने और दोस्तों से मिलने को मना करते है. आप चाहते हो में सिफ पढ़ाई करूं. में आपसे कुछ कह नही पाती हूं.’

यह नोट एमबीबीएस की छात्रा ने लिखा था. नोट लिखने के करीब डेड़ महीने बाद छात्रा की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. छात्रा सोमवार को अपने हॉस्टल के कमरे में बिस्तर पर मृत अवस्था में पाई गई. सुबह उसके रूम मेट ने उसे हिलाया को वह नही उठी. आनन-फानन में उसे अस्पताल ले जाया गया जहां डाक्टरों ने से मृत घोषित कर दिया.

पुलिस ने अस्पताल से शव बरामद कर पीएम के लिए भेज दिया है. निशातपुरा थाने के एसआई गब्बर सिंह ने बताया कि सोमवार सुबह पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की सेकेंड इयर की छात्रा मुस्कान सिंघल पिता उत्तम सिंघल (20) मृत अवस्था में अपने हॉस्टल के कमरे में पाई गई. उसके रूम मेट ने सुबह करीब साढ़े 8 बजे जब उसे हिलाया तो उसकी मौत हो चुकी थी.

रूम मेट छात्रा उसे आनन-फानन में अन्य साथी छात्राओं के साथ केंपस में ही स्थित अस्पताल ले गई जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. सूचना पर पहुंची पुलिस ने पीपुल्स अस्पताल से मृतका का शव बरमाद कर उसे पीएम के लिए हमीदिया अस्पताल पहुंचाया. जहां मृतका के परिजन भी पहुंच गए. पीएम के बाद परिजन मृतका का शव लेकर खातेगांव रवाना हो गए. पुलिस को मौके से एक प्रेक्टिकल नोट बुक में लिखा हुआ नोट भी मिला है.

Related Posts: