संदेह हुआ तो कराई गई जांच, पुलिस ने किया गिरफ्तार

भोपाल,

एमपी नगर थाना अंतर्गत एक फर्जी दस्तावेजों के सहारे जमानत करने का मामला सामने आया है. पुलिस ने जांच के बाद मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस आरोपी से पूछताछ करने में जुटी हुई है.

एमपी नगर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार जेल में छेड़छाड़ के मामले में जेल में बंद आरोपी नूरे हसन की जमानत के लिए सोहनलाल भट्ट उम्र 55 वर्ष ने आवेदन दिया था. जमानत के लिए उसने ऋण पुस्तिका लगाई थी.

प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट मनोज कुमार ने जमानतदार सोहनलाल से कुछ सवाल जबाव किए तो वह हिचकिचाया, जिसके चलते उन्होंने एमपी नगर पुलिस को ऋण पुस्तिका की जांच के आदेश दिए. जब पुलिस ने जाचं की तो सामने आया कि ऋण पुस्तिका तहसील से जारी ही नहीं हुई थी.

बताया जा रहा है कि ऋण पुस्तिका फंदा ब्लाक के सरवर गांव के किसान प्रहलाद नाम से बनी हुई थी. पुलिस ने ऋण पुस्तिका फर्जी पाए जाने के बाद मामला पंजीबद्व कर फर्जी जमानतदार को गिरफ्तार कर लिया है.

पुलिस कर रही पूछताछ

पुलिस फर्जी जमानतदार सोहनलाल से पूछताछ करने में जुटी हुई है. पुलिस को शक है कि कहीं उसने इसी तरीके से अन्य की जमानत तो नहीं कराई. वहीं पुलिस यह भी जानने में जुटी है कि उक्त अधेड़ नूर हसन के संपर्क में कैसे आया? इतना ही नहीं उसने दस्तावेज कहां से तैयार कराए इसको लेकर भी पुलिस जांच कर रही है.

रिश्तेदार के घर में की थी छेड़छाड़

पुलिस के मुताबिक नूर हसन बंग्लादेश का रहने वाला है और वर्तमान में मुंबई में रह रहा था. कुछ दिनों पहले वह एक रिश्तेदार के यहां कोहेफिजा में आया हुआ था, जहां उसने छेडख़ानी कर दी, जिसके बाद से कोहेफिजा पुलिस ने मामला पंजीबद्ध कर आरोपी को गिरफ्तार किया था और नूर हसन फिलहाल जेल मेंं बंद है.

Related Posts: