vid1नई दिल्ली,  देश की राजधानी दिल्ली में सोमवार को तीसरा भारत-अफ्रीका फोरम शिखर सम्मेलन (आईएएफएस) शुरू हो गया. इसका आगाज मेजबान देश भारत और अफ्रीकी महाद्वीप के 54 देशों के वरिष्ठ अधिकारियों की एक बैठक के साथ हुआ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि यह अफ्रीका के बाहर अफ्रीका का सबसे बड़ा सम्मेलन होगा, बल्कि यह दोनों के क्षेत्र के जनता के बीच के मिलन को और आगे ले जायेगा.

प्रधानमंत्री ने कहा कि आने वाले 26 से 29 अक्टूबर, भारत की राजधानी नई दिल्ली में भारत अफ्रीका फोरम शिखर सम्मेलन का आयोजन हो रहा है जो अफ्रीका के बाहर अफ्रीकी देशों का सबसे बड़ा सम्मेलन होगा.

ये जनता का भी मिलन होना चाहिये. उन्होंने कहा कि 54 अफ्रीकी देशों और यूनियनों के लीडर्स को आमंत्रित किया गया है. भारत और अफ्रीका के सम्बन्ध गहरे हैं. जितनी जनसंख्या भारत की है उतनी ही जनसंख्या अफ्रीकन देशों की है. और दोनों की मिला दें तो हम दुनिया की एक तिहाई जनसंख्या हैं. ऐसा कहते हैं लाखों वर्ष पहले, यह एक ही भू-भाग था. बाद में हिंदमहासागर से ये दो टुकड़े विभाजित हुए.

 

Related Posts:

रिश्ते प्रगाढ़ करने को उत्सुक ओमान
30 जून से लिखे नोट होंगे प्रतिबंधित
मोदी ने राजनाथ से पूर्वोत्तर क्षेत्राें में भूकंप की स्थिति का निरीक्षण करने को ...
असम के चुनावी रण में राहुल गांधी के टारगेट पर मोदी, आरआरएस और बीजेपी
रिचा के मामले में हस्तक्षेप करे केन्द्र सरकार
किरण बेदी पुड्डुचेरी की उपराज्यपाल नियुक्त