फिल्म गुरू की शूटिंग के दौरान फिल्म के डायरेक्टर किस सीन फिल्म में डालना चाहते थे लेकिन श्रीदेवी ऐसे किसी भी सीन के सख्त खिलाफ थीं. किस सीन के लिए ना कहना श्रीदेवी को काफी महंगा पड़ा क्योंकि इस फिल्म में डायरेक्टर ने उनके साथ धोखा धड़ी की. फिल्म के निर्देशक उमेश मेहरा ने होठों को सीन में इस्तेमाल करते हुए श्रीदेवी और मिथुन का वो लिपलॉक शूट कर लिया. यानि कि चेहरा तो श्रीदेवी का ही रहा लेकिन होंठों को क्रॉप करके किसी और के होठों का इस्तेमाल किया गया.

दूसरे के होठों को क्रॉप करके किस सीन शूट किया
साल 1992 में फिल्मफेयर को दिए एक इंटरव्यू में श्रीदेवी ने बात का जिक्र करते हुए कहा था कि मेरे मना करने के बावजूद भी किसी और के होठों को क्रॉप करके उन्हें मेरे चेहरे पर लगाकर वो लिपलॉक सीन शूट कर लिया गया. ऐसा होना मेरे लिए किसी बुरे सपने की तरह था क्योंकि मेरे पेरेंट्स ने वो फिल्म देखी तो वो बहुत गुस्सा हो गए थे. निर्देशक उमेश मेहरा ने बचाव करने के बजाय उल्टा ये आरोप लगा दिया कि मैंने फिल्म में वाकई वो लिपलॉक किया है. फिल्म रिलीज के बाद उस लिपलॉक सीन पर काफी बवाल हुआ था. लेकिन बाद में सब ठीक हो गया और मिथुन के साथ श्रीदेवी की दोस्ती भी हो गई थी.

Related Posts: