pic2भोपाल, मध्यप्रदेश में पाये जाने वाले विभिन्न खनिज के सर्वेक्षण एवं पूर्वेक्षण कार्य के लिये राज्य भू-वैज्ञानिक कार्यक्रम मण्डल की बैठक में सचिव खनिज साधन शिवशेखर शुक्ला ने कहा कि खनिज क्षेत्र में आ रही जरूरत के अनुरूप खनिज भंडारों का आकलन कर प्रमाणीकरण किया जाना आवश्यक है.

इससे प्रदेश में खनिज आधारित उद्योगों की स्थापना को बढ़ावा मिल सकेगा. शुक्ला नेभारत सरकार एवं राज्य सरकार की विभिन्न संस्थाओं के मध्य समन्वय की आवश्यकता पर भी जोर दिया.

बैठक में पिछले वर्ष में किये गये खनिज अन्वेषण एवं इस वर्ष विभाग द्वारा किये जाने वाले भौमिकी कार्यों पर विचार किया गया. पिछले वित्त वर्ष में संचालनालय भौमिकी तथा खनिकर्म द्वारा विभिन्न जिलों में 13 हजार 922 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में अन्वेषण का कार्य किया गया.

सर्वेक्षण कार्य में चूना पत्थर, रॉक फास्फेट तथा कोयले के लिए 5,630 मी. ड्रिलिंग किया गया.सतना जिले में चूना पत्थर के 15 मीट्रिक टन भंडार आकलित कियेगये. बालाघाट जिले की खनिज तालिका बनाने का कार्य इस साल पूरा कर लिया गया है.

Related Posts: