piyushनयी दिल्ली,  बिजली एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने आज कहा कि जिन इलाकों में लोग बिजली का शत प्रतिशत बिल भरेंगे और जहां बिजली की चोरी नहीं होगी वहां चौबीस घंटे बिजली की आपूर्ति की जायेगी।

श्री गोयल ने लोकसभा में एक पूरक प्रश्न के उत्तर में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में यह प्रयोग सफल रहा है। इससे बाकी बस्तियों के लोग भी प्रभावित हो रहे हैं और बिजली की चोरी की प्रवृत्ति कम हो रही है। उन्होंने कहा कि देश के सभी संयंत्रों में पर्याप्त कोयला है। पुराने पड़ चुके संयंत्रों को सुपर क्रिटिकल तकनीक पर चलाने का भी प्रयास किया जा रहा है। इससे उनमें 15 प्रतिशत कम कोयले की खपत होगी और पर्यावरण की भी सुरक्षा होगी।

बिजली मंत्री ने कहा कि इस समय देश में एक लाख करोड़ यूनिट बिजली उत्पादन क्षमता है और इसे बढ़ाकर डेढ़ लाख करोड़ यूनिट किया जा सकता है। देश में 65 प्रतिशत बिजली कोयले से बनती है। कोल इंडिया के पास इस समय 4.5 करोड़ टन अतिरिक्त कोयला है। कंपनियों को इसे खरीदने के लिए उत्साहित किया जा रहा है।

उन्होंने साथ ही कहा कि कोल इंडिया ने 2020 तक एक अरब टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य रखा है और इसे हासिल करने के लिए हर खान के बारे में विस्तृत रिपोर्ट तैयार की है। इसमें से 90.8 करोड़ टन कोयला मौजूदा खानों से उत्पादन बढ़ाकर निकाला जाएगा जबकि शेष 9.2 करोड़ टन के लिए नयी खानों की तलाश की जाएगी।

बिजली मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के सत्ता संभालने के बाद वर्ष 2015 में कोयला उत्पादन में 6.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई और यह 3.2 करोड़ टन बढ़ा। मौजूदा वर्ष में कुल उत्पादन के 49.4 करोड़ टन रहने का अनुमान है जो पिछले वर्ष से नौ प्रतिशत अधिक है। इस तरह इस वर्ष चार करोड़ टन अतिरिक्त कोयले का उत्पादन होगा।

Related Posts: