हरारे,

जिम्बाब्वे में सत्तारूढ़ जानू-पीफ पार्टी ने राष्ट्रपति राबर्ट मुगाबे को पद से हटाने के लिए कल एक बैठक बुलाई थी और इसमें कई राजनीतिक फैसले लिए गए।समाचार पत्र हेराल्ड टाइम्स ने अाज यह जानकारी दी ।

समाचार पत्र के मुताबिक पार्टी की शाखाएं 10 राज्यों में हैं और सेना के सत्ता में हाथ में लेने के बाद पार्टी ने पहली बार अपनी बैठक बुलाई अाैर श्री मुगाबे को पद से हटाने के निर्णय के अलावा उनकी पत्नी ग्रेस को भी पार्टी से त्यागपत्र देने को कहा है।

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि पार्टी का सर्वसम्मत निर्णय यही है कि श्री मुगाबे को पद से हटा दिया जाए और अगर वह स्वेच्छा से इस्तीफा नहीं देते हैं तो उन्हें पार्टी से बर्खास्त किया जा सकता है और अंतिम कदम उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाना हाेगा।

समाचार पत्र के मुताबिक पार्टी रविवार को अपना विशेष सत्र बुलाएगी जिसमें पार्टी के ढांचे में बदलाव और मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम पर विचार किया जाएगा।बताया जा रहा है कि बुधवार को सत्ता अपने हाथ में लेने के बाद से ही सेना राष्ट्रपति का विशेष ध्यान रख रही है और उनके बारे में जल्द ही कोई निर्णय लिया जा सकता है।

पार्टी का यह भी विचार है कि उप राष्ट्रपति पद से हटाए गए एमरसन मांगागवा को उनके पद पर बहाल किया जाए क्याेंकि उन्हें केन्द्रीय समिति की सहमति के बगैर हटाया गया है।राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा भी है कि सेना उन्हें इसी पद पर बहाल कर सकती है।

Related Posts: