spo1हरारे,  यार्कर मैन जसप्रीत बुमराह (22 रन पर चार विकेट) के एक और घातक प्रदर्शन तथा ओपनरों लोकेश राहुल (नाबाद 63) और फैज फजल (नाबाद 55) के शानदार अर्धशतकों से धोनी की युवा सेना ने जिम्बाब्वे को तीसरे और आखिरी वनडे में बुधवार को 10 विकेट से रौंदकर सीरीज में 3-0 से क्लीन स्वीप कर ली.

भारतीय गेंदबाजों ने हरारे स्पोर्ट्स क्लब में एक और तूफानी प्रदर्शन करते हुये मेजबान टीम को 42.2 ओवर में 123 रन पर निपटा दिया. भारत ने यह आसान लक्ष्य 21.5 ओवर में बिना किसी विकेट के नुकसान पर 126 रन बनाकर हासिल कर लिया. भारत ने इस तरह तीन मैचों की सीरीज में मेजबान टीम का सफाया कर दिया. भारत ने पहला वनडे नौ विकेट से और दूसरा वनडे आठ विकेट से जीता था.

धोनी के युवा तुर्कों ने सीरीज में लगातार शानदार प्रदर्शन किया और मेजबान टीम को वापसी का कोई मौका नहीं दिया. भारत ने इस तरह जिम्बाब्वे में वनडे सीरीज जीतने की हैट्रिक बना ली. इससे पहले 2015 में अजिंक्या रहाणे की कप्तानी में भारत ने जिम्बाब्वे को 3-0 से और 2013 में विराट कोहली की कप्तानी में जिम्बाब्वे को 5-0 से हराया था. भारत ने इस मैच में करुण नायर को विश्राम देकर फैज फजल को अपना पदार्पण करने का मौका दिया. फैज फजल ने इस मौके का पूरा फायदा उठाते हुये पदार्पण मैच में अर्धशतक बनाने की उपलब्धि हासिल कर ली. लोकेश राहुल ने सीरीज में अपना दूसरा 50 प्लस का स्कोर बनाया. उन्होंने पहले वनडे में पदार्पण मैच में शतक बनाने वाला पहला भारतीय होने का कीर्तिमान बनाया था.

दोनों बल्लेबाजों ने शानदार ओपनिंग शतकीय साझेदारी की जिसकी बदौलत भारत ने 21.5 ओवर में मैच निपटा दिया. राहुल ने 70 गेंदों पर नाबाद 63 रन में चार चौके और दो छक्के लगाये जबकि फजल ने 61 गेंदों पर नाबाद 55 रन में सात चौके और एक छक्का लगाया. फजल ने भारत के लिये विजयी चौका मारा.
इस सीरीज का दिलचस्प आंकड़ा यह रहा कि जिम्बाब्वे ने तीन मैचों में 30 विकेट खोकर कुल 417 रन बनाये तो दूूसरी तरफ भारत ने तीन मैचों में मात्र तीन विकेट खोकर 428 रन ठोक डाले.