smritiनयी दिल्ली,  सरकार ने आज दो टूक शब्दों में स्पष्ट किया कि वह देश के किसी भी केन्द्रीय विश्वविद्यालय में छात्रों के खिलाफ की गई अनुशासनात्मक कार्रवाई के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगी क्योंकि यह विश्वविद्यालयों की स्वायत्ता का मामला है।

मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने राज्यसभा में मंत्रालय के कामकाज पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए कई विपक्षी सदस्यों की इस मांग को खारिज कर दिया कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय , हैदराबाद विश्वविद्यालय तथा इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रों के खिलाफ की गयी अनुशासनात्मक कार्रवाई के मामले में सरकार हस्तक्षेप कर इस मुद्दे को सुलझाये।

श्रीमती ईरानी ने कांग्रेस के आनंद भास्कर रापोलु द्वारा इन विश्वविद्यालय के छात्राें को मिले दंड को माफ करने के अनुरोध पर कहा कि वह संविधान के नियमों और कानूनों से बंधी हैं और विश्वविद्यालयों की स्वायत्ता की पक्षधर हैं।

Related Posts: