varunवाराणसी,  विकास और संसाधनों के समान वितरण की वकालत करते हुए बीजेपी के सांसद वरुण गांधी ने शनिवार को देश के अमीर कारोबारी देनदारों पर हमला बोला.

वरुण ने उन देनदारों की निंदा की जिनपर सरकारी बैंकों की बहुत बड़ी रकम बकाया है. वरुण ने कहा, जब एक किसान या आम आदमी कर्ज लेने के लिए बैंक जाता है, तो उसकी जमीन या अन्य किसी संपत्ति को गिरवी रखा जाता है. बड़े कारोबारियों व उद्योगपतियों को हजारों करोड़ रुपया किस आधार पर कर्ज में दिया जाता है?

वरुण यहां वाराणसी के एक निजी तकनीकी संस्थान के दीक्षांत समारोह में अतिथि के तौर पर आए थे. कार्यक्रम के दौरान बोलते हुए वरुण ने विजय माल्या को निशाना बनाकर कहा, माल्या जैसे देनदारों के कारण बैंकों को 14 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान हुआ है. कर्ज के लिए बेहद बड़ी रकम लेने के बाद भी माल्या अपने कर्मचारियों को तनख्वाह नहीं दे रहे हैं. इतना कुछ करने पर भी वह जेल से बाहर हैं, यह बात हैरान करने वाली है.

प्रदेश में चपरासी के पद पर निकली नियुक्तियों में बड़ी तादादा में डिग्रीधारियों द्वारा निवेदन किए जाने की खबरों को लेकर वरुण ने राज्य की अखिलेश सरकार को निशाना बनाया. उन्होंने कहा कि बढ़ती बेरोजगारी के कारण मजबूर होकर स्नातक व पीएचडी डिग्रीधारी भी सफाई कर्मचारी और चपरासी के पदों के लिए आवेदन कर रहे हैं.

Related Posts: