anupam_kher2नई दिल्ली,  अभिनेता अनुपम खेर शुक्रवार को अपनी फिल्म बुद्ध इन अ ट्रैफिक जैम की स्क्रीनिंग के लिए जेएनयू कैंपस में पहुंचे. इस दौरान उन्होंने जेएनयू में देशविरोधी नारे लगाए जाने की घटना और छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर इशारों-इशारों में जमकर हमला किया.

खेर ने जेएनयू में कथित तौर पर देश विरोधी नारे लगाए जाने के बाद देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किए गए और फिर बेल पर बाहर आए कन्हैया पर अप्रत्यक्ष तरीके से हमला करते हुए छात्रों से सवाल किया कि कुछ स्टूडेंट्स कैसे बेल पर बाहर आए एक शख्स को हीरो बना सकते हैं. खेर ने छात्रों से कहा, आप राजनीति करते हैं. हर कोई करता है और मैंने भी अपने छात्र दिनों के दौरान किया था, लेकिन देश के खिलाफ नहीं.

वैसा शख्स जो बेल पर बाहर आया है, उसका स्वागत क्यों किया जाए. जो देश के खिलाफ बातें करता है, वह हीरो नहीं हो सकता है.

जेएनयू में आजादी वाले नारे पर तंज कसते हुए खेर ने कहा, देश में आजादी चाहिए, चलिए इस पर बात करते हैं. देश में किस चीज से आजादी चाहिए. देश में आपको भुखमरी से आजादी चाहिए. आपने क्?या किया भुखमरी हटाने के लिए, आपने खुद क्या किया देश के निर्माण के लिए.

खेर ने आगे कहा, आलोचना करना बहुत आसान काम है. एक बिल्डिंग को ढहाने में एक सेकंड का वक्त लगता है, उसको बनाने में बहुत साल लग जाते हैं. इसलिए इस देश की लगातार आलोचना करने की जरूरत नहीं है. इस देश के निर्माण के लिए काम कीजिए.

कन्हैया पर हमलावर रुख अपनाते हुए खेर ने आगे कहा, आप बार-बार कहते हैं कि आपके माता-पिता बहुत गरीब हैं. अरे बेटा, तू इतने सालों बाद यहां आया, इतना रहा, वो तो बेचारे वैसे के वैसे फिर भी गरीब रहे. उनकी गरीबी दूर करने के लिए क्या किया?

अपने ऊपर हमला करने वालों पर भी खेर जमकर बरसे. इसके लिए उन्होंने एक शेर कहा, उमर भर अपने गिरेबां से उलझने वाले, तू मुझे मेरे ही साए से डराता क्या है.

Related Posts: