धर्मशाला,

वनडे सीरीज से पहले श्री लंका के मुकाबले कागजों पर बेहद मजबूत नजर आ रही टीम इंडिया पहले मैच में 112 रन के स्कोर पर ही ढेर हो गई. धर्मशाला के छोटे ग्राउंड के लिहाज से यह स्कोर बेहद कम है.

भारतीय टीम की पारी में एक वक्त ऐसा भी आया, जब उसके सामने अपने वनडे इतिहास के सबसे कम स्कोर पर आउट होने का खतरा पैदा हो गया. उस वक्त भारतीय टीम के 29 रन पर ही 7 विकेट गिए गए थे.

भारत का सबसे कम स्कोर श्रीलंका के ही खिलाफ है, जब टीम सिर्फ 54 रन पर सिमट गई थी. भारत ने इस पारी के साथ ही सबसे कमजोर बैटिंग को लेकर कई अनचाहे रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिए हैं.

पढ़ें, टीम इंडिया के ढेर होने से बने कौन से रेकॉड…

16 रन 5 विकेट– सिर्फ 16 रनों के स्कोर पर आधी टीम पविलियन लौट चुकी थी. वनडे मैच में टीम इंडिया के टॉप 5 की ओर से यह अब तक का सबसे स्कोर है. इससे पहले 1983 के वल्र्ड कप में जिम्बॉब्वे के खिलाफ 17 रनों पर आधी टीम मैदान से लौटी थी.

यह पांचवां मौका था, जब टीम इंडिया के शीर्ष 5 बल्लेबाजों में से कोई भी दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सका. वहीं, बीते 15 सालों में यह ऐसा पहला मौका है. इससे पहले 2012 में चेन्नै में पाक के खिलाफ भी भारतीय बैटिंग लाइनअप की यही स्थिति हुई थी.

11/3 – वनडे मैच में 10 ओवर खत्म होने पर 2001 के बाद भारत का यह सबसे कमजोर स्कोर था. इससे पहले 2003 में न्यू जीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम 10 ओवर में 2 विकेट पर 16 रन ही बना सकी थी.

2/2– इस स्कोर पर भारत पहले 5 ओवर में 2001 के बाद पहली बार आउट हुआ है.

दिनेश कार्तिक तीन ओवर खेल भी खाता खोलने में असफल रहे और आउट हो गए. यह पहला मौका है, जब कोई भारतीय बल्लेबाज 18 गेंदों पर भी खाता नहीं खोल सका. उनसे पहले यह अनचाहा रेकॉर्ड एकनाथ सोल्कर के नाम था. उन्होंने 1974 में इंग्लैंड के खिलाफ 17 गेंदों में खाता खोला था.

Related Posts: