यूपी एटीएस ने घर में दबिश देकर किया गिरफ्तार

  • न्यायालय में पेश करने के बाद यूपी ले गयी टीम

नवभारत न्यूज रीवा,

उत्तर प्रदेश एटीएस ने आतंकी संगठनों को फंड मुहैया कराने के मामले में 10 मददगारों को दबोचा है. मध्य प्रदेश के रीवा से भी टेरर फंडिंग के तार जुड़े पाये गये.

शनिवार की रात यूपी एटीएस की टीम ने रीवा जिले के सेमरिया थाना अन्तर्गत बीड़ा में दबिश देकर एक युवक को गिरफ्तार किया. जिसके पास से कई एटीएम कार्ड और विभिन्न बैंको की पासबुक एवं फोन बरामद किया है. यूपी एटीएस ने रविवार को आरोपी का मेडिकल कराया और न्यायालय में पेश करने के बाद उसे अपने साथ पूछताछ के लिए यूपी ले गई है. पकड़े गये युवक को वर्ष 2014 में इसी प्रकार की गतिविधि में संलिप्त होने पर गिरफ्तार किया गया था.

उत्तर प्रदेश एटीएस ने आतंकी संगठनों को फंड मुहैया कराने वाले 10 मददगारों को दबोचने में सफलता हाथ लगी है. एटीएस ने यूपी में गोरखपुर, कुशीनगर, आजमगढ़, लखनऊ के अलावा मध्यप्रदेश के रीवा और बिहार के गोपालगंज से कुल 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. टेरर फंडिंग में यूपी एटीएस व पुलिस ने पाकिस्तानी ऐजेन्ट को पकड़ा है जो पाकिस्तान से आने वाले रुपयों को दूसरे खातों में बांटता था. उक्त आरोपी के पकड़े जाने से पूरे रीवा जिले में हडक़ंप है.

पुलिस अब स्थानीय स्तर पर आरोपी के मददगारों व इस काम में लिप्त अन्य आरोपियों की तलाश में जुट गई है. यूपी की आतंकवाद निरोधक दस्ता शनिवार की रात पाकिस्तानी एजेंट की तलाश में सेमरिया आया हुआ था और स्थानीय पुलिस को इस संबंध में जानकारी दी. सेमरिया पुलिस ने पूरा मामला वरिष्ठ अधिकारियों को संज्ञान में देकर यूपी एटीएस टीम के साथ बीड़ा गांव निवासी उमा प्रताप सिंह उर्फ सौरभ सिंह पिता शंकर सिंह के घर में दबिश देकर उसे गिरफ्तार कर लिया.

उक्त आरोपी से पूछताछ की गई तो टेरर फ डिंग के बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया. आरोपी के कब्जे से पुलिस ने मोबाइल, एटीएम कार्ड, विभिन्न बैंकों की पासबुक बरामद हुई है.

इन खातों के माध्यम से वह गोरखधंधा करता था. आरोपी के तार पाकिस्तान की खुफि या ऐजेन्सी आईएसआई से जुड़े हुए थे जो भारत में आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए आरोपी को रुपये भेजता था और आरोपी उसे दूसरे लोगों के खातों में बांटता था.

इसके एवज में 10 प्रतिशत कमीशन आरोपी को दिया जाता था. आरोपी के पकड़े जाने के बाद शनिवार की रात एसपी ललित शक्यवार सेमरिया थाने पहुंचे और करीब घंटे भर तक आरोपी से पूछताछ की.

आरोपी द्वारा किये गये खुलासे चौंकाने वाले थे और उसे सुनकर खुद रीवा पुलिस के भी होश उड़ गये. आरोपी के विरूद्ध यूपी एटीएस ने धारा 121 ए, 120बी, 467, 468, 471, 419, 420, आईपीसी व 3, 6 इण्डियन वायरलेस टेलीग्राफी एक्ट 1933 व 4,20 25 इण्डियन टैलीग्राफी एक्ट 1885 के तहत प्रकरण कायम किया गया है. रविवार को आरोपी का मेडिकल कराया और न्यायालय में पेश करने के बाद उसे अपने साथ पूछताछ के लिए यूपी ले गई है.

रीवा पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार ने बताया कि यूपी एटीएस के साथ मिलकर आरोपी युवक के घर में दबिश दी गई. जिसे गिरफ्तार किया गया है. आरोपी को रविवार को ट्रांजिड रिमाण्ड प्राप्त करने हेतु जेएमएफसी सिरमौर न्यायालय में पेश किया गया. जहां से उसे एटीएस कोर्ट लखनऊ के समक्ष विधिसम्मत कार्यवाही हेतु प्रस्तुत किया जायेगा.