बीजिंग,

आतंकवादियों को पनाह देने के मामले में पाकिस्तान को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की फटकार के बाद चीन उसके बचाव में आगे आया है और कहा है कि विश्व समुदाय को आतंकवाद के खिलाफ उसके ‘ उत्कृष्ट योगदान’ को पहचानना चाहिए।

‘द न्यूज इंटरनेशनल’ ने चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग के हवाले से आज बताया कि पाकिस्तान ने इस दिशा में काफी प्रयास किया है और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में कुर्बानी दी है।आतंकवाद निरोधक वैश्विक प्रयास में उसकी भूमिका शानदार रही है।अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इसे मान्यता देनी चाहिए।

श्री शुआंग ने कहा कि चीन यह देखकर खुश है कि पाकिस्तान आतंकवाद निरोधक अभियानों सहित अंतरराष्ट्रीय सहयोग में संलग्न है ताकि क्षेत्रीय शांति और स्थिरता में भी योगदान दे सके।उन्होंने कहा, “चीन और पाकिस्तान सदाबहार साझेदार हैं।हम अपने सहयोग को और मजबूत करने के लिए तैयार हैं ताकि दोनों पक्षों का फायदा हो।”

गौरतलब है कि श्री ट्रंप ने आतंकवादियों को पनाह देने के मामले में पाकिस्तान को कल कड़ी फटकार लगायी थी।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, “अमेरिका ने मूर्खतापूर्ण ढंग से बीते 15 सालों में पाकिस्तान को 33 अरब डॉलर से अधिक की सहायता दी है लेकिन बदले में हमें झूठ और छल के अलावा कुछ भी नहीं मिला।हमारे नेताओं को मूर्ख समझा गया।वह आतंकवादियों को सुरक्षित पनाहगाह देते रहें और हम अफगानिस्तान में खाक छानते रहें।अब और नहीं।”

इसके साथ ही श्री ट्रम्प ने आज अमेरिका की ओर से पाकिस्तान को दी जाने वाली सहायता राशि को भी बंद कर दिया।श्री शुआंग ने यह पूछे जाने पर कि क्या श्री ट्रंप की आलोचना से पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच शांति बहाल करने की चीन की कोशिश पर प्रभाव पड़ेगा पर कहा, “हमारा मानना है कि चीन, पाकिस्तान और अफगानिस्तान न केवल भौगोलिक तौर पर बल्कि साझा हितों के मामले में भी आपस में जुड़े हुए हैं।हमारे लिए आपसी संवाद और आदान-प्रदान को बढ़ाना स्वाभाविक है।”

Related Posts: